भारतीय पब्लिक सर्च इंजन

ई-सेवा (Links)

संसद में गूंजा महिला आरक्षण का मुद्दा

img
-दोनों सदनों में कांग्रेस की महिला सांसदों ने उठाई मांग
नई दिल्ली (ईएमएस)। संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण का आज चौथा दिन है। संसद के दोनों सदनों में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं को बधाई दी गई। सभी सांसदों ने तालियां बजाकर सदन में मौजूद महिलाओं को महिला दिवस की शुभकमनाएं दीं। लोकसभा सभापति सुमित्रा महाजन ने स्वरचित पंक्तियों के जरिए महिलाओं को इस खास दिन की बधाई दी। लेकिन इसके बाद सांसद कूप में आकर नारेबाजी करने लगे और सदन की कार्यवाही को 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। उधर, राज्यसभा में सभापति वेंकैया नायडू ने भी देश और दुनिया की सभी महिलाओं को सदन की ओर से महिला दिवस की शुभकामनाएं दीं। इस मौके पर सभापति ने एक प्रस्ताव लाने की बात कही। राज्यसभा में कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और सांसद अंबिका सोनी ने महिला दिवक से मौके पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि देश में आज भी महिलाओं को बराबरी का दर्जा हासिल नहीं है। उन्होंने इसके लिए महिला आरक्षण विधेयक को पारित कराने पर जोर दिया और सदन में 33 फीसदी आरक्षण की मांग की। कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी ने भी महिला दिवस के मौके पर महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों पर लगाम लगाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सदन में ही नहीं, बल्कि हर जगह बराबरी का दर्जा मिलना चाहिए। कांग्रेस सांसद कुमारी शैलजा ने भी कहा कि महिला आरक्षण को लेकर सभी दलों के एकमत होकर एक प्रस्ताव पारित करना चाहिए और हमारी पार्टी इसके लिए तैयार है। कांग्रेस सांसद रजनी पाटिल ने भी अमृता प्रीतम की एक कविता के जरिए सदन में अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि सदन में हमें अपनी बात कहने का मौका और बराबरी का दर्जा चाहिए।
 
संसद में आज का एजेंडा:-
गुरुवार को संसद के दोनों सदनों में संसद में संसद में बैंकिंग क्षेत्र की अनियमितताओं पर चर्चा होगी। इसमें पीएनबी घोटाला और नीरव मोदी का मुद्दा शामिल है। राज्यसभा में सांसद राजीव चंद्रशेखर इस मुद्दे पर चर्चा की शुरुआत करेंगे। वहीं लोकसभा में बिना वोटिंग के नियम 193 के तहत बैंक घोटाले पर चर्चा होगी। राज्यसभा में आज पेयजल मंत्रालय की स्थाई समिति की रिपोर्ट पटल पर रखी जाएगी। इस मुद्दे पर नवीवत कृष्णन चर्चा की शुरुआत करेंगे और बीजेपी सांसद शमशेर सिंह अपनी बात रखेंगे। इसके अलावा कच्चे तेल और पेट्रोलियम उत्पादों के भंडारण पर भी ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पेश किया जाएगा। राज्यसभा में मोटर यान विधेयक को भी पारित कराया जाना है। इसमें ट्रैफिक नियम तोड़ने पर सख्त सजा और जुर्माने जैसे कई प्रावधान शामिल हैं। वित्त मंत्री अरुण जेटली राज्यसभा में स्टेट बैंक (निरसन और संशोधन) विधेयक पेश कर सकते हैं। सरकार की कोशिश होगी कि यह विधेयक सदन से पारित हो। इस विधेयक में बैंकों के विलय के बाद उनके तर्कसंगत इस्तेमाल पर जोर दिया गया है।
राजेन्द्र, ईएमएस-8 मार्च-2018
 
 
Admin | Mar 08, 2018 13:09 PM IST
 

Comments