भारतीय पब्लिक सर्च इंजन

ई-सेवा (Links)

टीवी बिक्री के लिए आक्रामक अभियान चलाएगा फ्लिपकार्ट

img
बेंगलुरु (ईएमएस)। फ्लिपकार्ट अब स्मार्टफोन की तरह आक्रामक तरीके से टीवी बेचने की शुरूआत करने वाला है। हाल के दिनों में टीवी सेट के तेज उभार ने इसे ऑनलाइन मार्केट प्लेस की दूसरी सबसे ज्यादा आमदनी वाली श्रेणी में ला दिया है। फ्लिपकार्ट जिस तरह से अच्छे डिस्काउंट, एक्सक्लूसिव प्रॉडक्ट्स, तेज डिलिवरी, आसान फाइनेंसिंग से अपनी सबसे बड़ी कैटिगरी स्मार्टफोन की बिक्री करती है, उसी तरह की रणनीति वह टीवी के लिए भी आजमाने की सोच रहा है। 
फ्लिपकार्ट द्वारा बिक्री के मामले में टेलिविजन 2017 में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। 2016 में यह चौथे स्थान पर था। टीवी अब सेल्स में लैपटॉप और फैशन एक्सेसरीज की जगह ले रहा है। कंपनी ने पिछले साल 1,950-2,050 करोड़ रुपये की लगभग 10 लाख टीवी यूनिट्स बेची थीं। यह एक साल पहले के 1,000 करोड़ रुपये का दोगुना है। इस साल फ्लिपकार्ट ने 5,000 करोड़ के टीवी सेट्स बेचने का लक्ष्य रखा है। फ्लिपकार्ट के लार्ज अप्लायंस हेड संदीप करवा ने बताया, 'अब हमारी कुल आमदनी में स्मार्टफोन के बाद टीवी कैटिगरी सबसे अधिक योगदान कर रही है।' उन्होंने बताया, 'हम ब्रैंड्स के साथ साझेदारी करके लोगों को लोन पर टीवी खरीदने का ऑप्शन दे रहे हैं।' 
बेंगलुरु की फ्लिपकार्ट एलजी और सैमसंग सहित कई ब्रैंड्स के साथ ग्राहकों के लिए कस्टमाइज टीवी तैयार करने पर काम कर रही है। करवा ने कहा, 'हम इन ब्रैंड्स के प्रॉडक्ट मैनेजर्स के साथ भी कोआर्डिनेशन रखते हैं। हम उन्हें बताते हैं कि लोग अपने टीवी सेट में क्या फीचर्स चाहते हैं।' फ्लिपकार्ट कोयंबटूर, गुवाहाटी, लुधियाना और लखनऊ में वेयरहाउस खोलने की प्रक्रिया भी तेज कर रही है। इससे वह ज्यादा क्षेत्रों को कवर करके टीवी सेट सहित लार्ज अप्लायंस की कम समय में डिलिवरी कर सकेगा। कंपनी 2017 में टीवी की बिक्री के लिए एक्सचेंज प्रोग्राम्स के 20 फीसदी योगदान को इस साल 30 फीसदी करने का प्लान बना रहा है। 
कुछ उद्योग विशेषज्ञों का कहना है कि ई-कॉमर्स कंपनियां जितने टीवी सेट्स बेच रही हैं, वह देश में कुल टीवी सेट्स की बिक्री की तुलना में बहुत कम हैं। रिटेल कंसल्टेंसी वजीर अडवाइजर्स के फाउंडर हरमिंदर साहनी ने कहा, 'फ्लिपकार्ट जितना डिस्काउंट दे रहा है और जितना घाटा उठा रही है, उस हिसाब से उससे बाजार में सबसे अधिक टीवी की बिक्री करनी चाहिए थी।' उन्होंने कहा, 'ऑनलाइन चैनल निश्चित रूप से ब्रैंड्स के लिए अच्छा प्लैटफॉर्म हैं, क्योंकि वे कन्ज्यूमर इनसाइट दे सकते हैं। हालांकि, ब्रैंड्स को ऑनलाइन और ऑफलाइन के बीच बिक्री बांटने के नजरिए से यह मुश्किल साबित होगा क्योंकि ऑनलाइन चैनल में ज्यादा डिस्काउंट की डिमांड होगी।' 
अनिरुद्ध, ईएमएस, 09 फरवरी 2018
 
 
Admin | Feb 09, 2018 16:06 PM IST
 

Comments