भारतीय पब्लिक सर्च इंजन

ई-सेवा (Links)

केन्द्र के 176 अफसरों की सेवानिवृत्ति

img
(अजित वर्मा) 
 केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने पिछले दिनों एक और सख्त कदम उठाते हुए सरकारी नौकरी करने वाले बड़े अधिकारियों को सख्त संदेश दिया है कि अगर वे ड्यूटी में लापरवाही बरतेंगे तो सरकार उनपर रहम नहीं करेगी। अधिकारियों को काम में कोताही बरतने को लेकर केंद्र सरकार ने 176 जनहित में सेवानिवृत्त कर दिया है।  
आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार वित्तीय नियम-56 (जे) के प्रावधानों और इसी तरह के दूसरे प्रावधानों के तहत समूह ए के 53 और समूह बी के 123 अधिकारियों के मामले में एक जुलाई, 2014 से 31 अक्तूबर, 2017 के बीच नियमों का उपयोग करते हुए यह कार्यवाही की गई है। कार्मिक मंत्रालय के अनुसार समूह ए के 11,828 अधिकारियों के रिकॉर्ड की समीक्षा की गई है। इनमें आईएएस, आईपीएस और भारतीय वन सेवा जैसी अखिल भारतीय सेवाओं के 2953 अधिकारी हैं। इसके अलावा समूह बी के भी 19,714 अधिकारियों के सेवा रिकॉर्ड की समीक्षा की गई।  
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं सार्वजनिक मंच से कह चुके हैं कि काम में कोताही बरतने वाले कर्मचारियों को रिटायरमेंट दे दिया जाएगा। 
नौकरशाही को चुस्त और जवाबदेह बनाये रखने के लिए इस तरह की सख्त कार्यवाही को देश की जनता से समर्थन ही मिलेगा। दरअसल, सरकारी अफसरों को प्राप्त सुरक्षा और एक तरह की गारण्टी उन्हें भयमुक्त रखती है और इसके कारण बहुत से अफसर इस मानसिकता से काम करने लगते हैं कि उनका कोई कुछ बिगाड़ नहीं सकता और सजा देना भी चाहे तो ज्यादा से ज्यादा उनका तबादला हो जायेगा। यह मानसिकता अक्सर कई अफसरों को भ्रष्ट, कामचोर, लापरवाह और तानाशाह बना देती है और वे निर्भीक होकर मनमानी करने लगते हैं। हालांकि ऐसे अफसरों  को सेवा से मुक्त करने के नियम पहले से बने हैं, लेकिन इन नियमों के तहत नियमित कार्यवाही न किये जाने से अफसरशाही में निर्भीकता पसरी रहती है। इस रवैये ने ऊपर से लेकर नीचे तक सड़ांध फैला रखी है।  
लेकिन अब जब मोदी सरकार ने एक साथ, एक समय पर 176 अफसरों को सेवानिवृत्ति दी तो अफसरशाही में हड़कम्प मच गया है। लेकिन हमारा मानना है कि भ्रष्ट और कामचोर अफसरों को मात्र सेवानिवृत्त किया जाना बहुत हल्की सजा है। इससे उन्हें पेन्शन, ग्रेच्युटी आदि के लाभ मिल जाते हैं। कड़ी कार्यवाही करने की इच्छाशक्ति हो तो ऐसे अफसरों को सीधे बर्खास्त ही किया जाना चाहिए ताकि  उन्हें अपने किये पर पछताने का अवसर तो मिले?  
-ईएमएस/सोनी/ 03जनवरी-18
 
Admin | Jan 03, 2018 11:23 AM IST
 

Comments