राज्य

प्रदेश एक्सप्रेस

Posted by khalid on

1
कांग्रेस में अबतक पीसीसी चीफ को लेकर फैसला नही हो पाया है। कयास लगाए जा रहे थे कि मंगलवार को कांग्रेस नेता सिंधिया और पार्टी अध्यक्ष सोनिया की मुलाकात होगी तो अध्यक्ष के नाम पर अंतिम मुहर लग जाएगी, लेकिन ऐसा ना हो सका। इसी बीच सिंधिया का बड़ा बयान सामने आया है।सिंधिया ने सफाई देते हुए कहा है कि मुझे महाराष्ट्र चुनाव के लिए स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में शामिल होना था, मैंने पार्टी अध्यक्ष से मिलने के लिए अलग से कोई समय नहीं मांगा था, हालांकि पार्टी आलाकमान ने गुरुवार को राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष की बैठक बुलाई है।


2
मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार शहरी आवासहीनों को आवास उपलब्ध कराने की अति-महत्वाकांक्षी योजना शुरू करने जा रही हैद्य मुख्यमंत्री कमलनाथ बुधवार को झाबुआ से मुख्यमंत्री आवास मिशन (शहरी) का शुभारंभ करेंगे। इस योजना के तहत शहर की मलिन बस्तियों में रहने वाले आवासहीन भी अब मकान मालिक बन सकेंगेद्य योजना के तहत 5 लाख मकान बनाए जाएंगेद्य


3
केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार) प्रह्लाद पटेल ने मुख्यमंत्री कमलनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि ष्कांग्रेस और कमलनाथ से नैतिकता की उम्मीद नहीं की जा सकती। वे ग्वालियर में पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे।केन्द्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल मंगलवार को एक दिवसीय प्रवास पर ग्वालियर आये। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर के घर आर्य नगर मुरार जाकर उनकी मां शारदा देवी के निधन पर शोक जताया।


4
विधानसभा चुनाव के 10 महीने बाद बतौर विपक्ष भारतीय जनता पार्टी पहली बार श्घंटानादष् आंदोलन के जरिए कमलनाथ सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर रही है। पार्टी का दावा है कि पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था बिगड़ने से अराजकता की स्थिति है। किसान परेशान है, कर्जमाफी के नाम पर किसानों से छलावा किया गया। अब उन पर 14 फीसदी जुर्माने के साथ कर्ज के भुगतान का दबाव बनाया जा रहा है। तबादलों ने गवर्नेंस को चौपट कर दिया है। जन समस्याओं के निपटारे पर किसी का ध्यान नहीं है। इन सारे मुद्दों को लेकर भाजपा बुधवार को सड़कों पर उतरेगी।


5
प्रदेश के कई जिलों में तेज बारिश का दौर रुक-रुककर जारी है। इस कारण नर्मदा, तवा, बेतवा, शिप्रा सहित अन्य नदियां और कई नाले उफान पर हैं। प्रदेश के ज्यादातर बड़े बांधों के गेट खोलने पड़े हैं। शहरों और कस्बों को जोड़ने वाले कई मार्ग बंद हैं। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 48 घंटों तक प्रदेश में कमोबेश यही हालत बने रहेंगे। 13 जिलों में मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।