ज़रा हटके

प्रीटर्म बर्थ में हो सकती है किडनी की बीमारी

14/05/2019

-ताजे अध्ययन में हुआ खुलासा
नई दिल्ली (ईएमएस)। एक अध्ययन में खुलासा हुआ है कि समय से पहले जन्मे शिशुओं में आगे चलकर गुर्दे की बीमारी क्रॉनिक किडनी डिजीज (सीकेडी) विकसित होने का जोखिम बना रह सकता है। अध्ययन के मुताबिक, प्रीटर्म बर्थ यानी 37 सप्ताह की गर्भावस्था से पहले ही शिशु का जन्म होने पर गुर्दे के विकास और परिपक्वता में बाधा उत्पन्न होती है। इस कारण कम नेफ्रॉन बन पाते हैं। नेफ्रॉन वे फिल्टर हैं, जो शरीर से बेकार और विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालते हैं। भारत में अंतिम चरण के गुर्दे की विफलता विकसित करने वाले सभी रोगियों में से केवल 10 से 15 प्रतिशत को ही उचित उपचार मिलता है। लगभग 6,000 किडनी प्रत्यारोपण, 60,000 हेमोडायलिसिस से गुजरते हैं, और अन्य 6,000 एक वर्ष में पेरिटोनियल डायलिसिस लेते हैं। गुर्दे की रिप्लेसमेंट थेरेपी की चाह में लगभग छह लाख लोग मर जाते हैं। अंतिम चरण की किडनी की बीमारी विकसित करने वाले सभी रोगियों में से, 90 प्रतिशत से अधिक को गुर्दे की रिप्लेसमेंट थेरेपी की जरूरत होती है, क्योंकि देखभाल का खर्च वहन करने में असमर्थता के चलते और 60 प्रतिशत वे लोग भी जो वित्तीय कारणों से उपचार को बीच में ही छोड़ देते हैं। मई, 2017 तक डायलिसिस पर निर्भर रोगियों की संख्या 1,30,000 से अधिक थी। यह संख्या लगभग 232 प्रति 10 लाख जनसंख्या के हिसाब से बढ़ रही है।विशेषज्ञों के अनुसार सीकेडी का अर्थ है समय के साथ गुर्दे की कार्यक्षमता में कमी होते जाना और अंत में गुर्दे का विफल हो जाना। इससे मरीजों को डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण से गुजरना पड़ता है।मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, किडनी की असामान्य संरचना और बीमारी के पारिवारिक इतिहास जैसी अंतर्निहित स्थितियों के साथ वे अधिक जोखिम में हैं। इसके अलावा, जो लोग धूम्रपान करते हैं और मोटापे का शिकार होते हैं, वे भी लंबी अवधि में सीकेडी का शिकार हो सकते हैं।" इस स्थिति के कुछ लक्षणों में मतली, उल्टी, भूख में कमी, थकान और कमजोरी, नींद की समस्या, मानसिक सक्रियता में कमी, मांसपेशियों में मरोड़ व ऐंठन, लगातार खुजली, सीने में दर्द, सांस की तकलीफ और उच्च रक्तचाप शामिल हैं। बीमारी के संकेत और लक्षण तब तक ध्यान देने योग्य नहीं होते, जब तक कि रोग काफी अच्छी तरह से बढ़ नहीं जाता, और स्थिति गंभीर न हो गई हो। सीकेडी के एक उन्नत चरण में, शरीर में तरल पदार्थ, इलेक्ट्रोलाइट्स और कचरे के खतरनाक स्तर का निर्माण हो सकता है।
सुदामा/ईएमएस 14 मई 2019