क्षेत्रीय

दिशा समिति की बैठक सम्पन्न

08/11/2019

नरसिंहपुर(ईएमएस)। केन्द्रीय इस्पात राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते की अध्यक्षता में जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति- दिशा की बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में राज्य सभा सांसद कैलाश सोनी, सांसद राव उदय प्रताप सिंह, विधायक जालम सिंह पटैल की मौजूदगी में सम्पन्न हुई।
बैठक में विधायक प्रतिनिधि गाडरवारा प्रदीप पटैल, जिला पंचायत सदस्य दिग्विजय सिंह पटैल, जनपद पंचायत नरसिंहपुर की अध्यक्ष श्रीमती अनुराधा पटैल, जनपद पंचायत सांईखेड़ा की अध्यक्ष श्रीमती फूलाबाई अहिरवार, जनपद पंचायत गोटेगांव के अध्यक्ष संतोष दुबे, कलेक्टर दीपक सक्सेना, पुलिस अधीक्षक डॉ. गुरकरन सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत केके भार्गव, समिति के सदस्यगण सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।
बैठक में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना फेज 3 एवं 4 पर चर्चा करते हुये समिति अध्यक्ष कुलस्ते ने निर्देश देते हुए कहा कि निर्माण कार्य से संबंधित टेंडर प्रक्रिया पूर्ण हो गई हो, तो उनका कार्य समय सीमा के भीतर पूर्ण करना सुनिश्चित किया जाये। पीआईयू क्रमांक एक अधिकारी ने बताया कि मेजर रूलर लिंक के तहत कनेक्टिविटी को बढ़ाने का उद्देश्य है, इससे ग्रामीण सउ़कों को हाईवे से जोड़कर कनेक्टिवीटी को बढ़ाया जायेगा। उन्होंने बैठक में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजनांतर्गत प्रगतिरत मार्गों की जानकारी भी बैठक में दी। बैठक में सदस्यों ने कहा कि जिन सड़कों में गड्ढे हो चुके हैं, उनका मरम्मत कार्य करवाया जाये और दुर्घटना वाले क्षेत्रों को प्राथमिकता में लेकर दुरूस्त किया जाये।
लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की जानकारी देते हुए सीएमएचओ डॉ. एनयू खान ने बताया कि जिले में एक अप्रैल 2019 से 30 सितम्बर 2019 तक जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत कुल 7153 लाभार्थियों को राशि प्रदान की जा चुकी है। पूर्ण टीकाकरण के तहत जिले में 81 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो चुका है। दिशा समिति के अध्यक्ष एवं सदस्यों ने परिवार कल्याण कार्यक्रम के अंतर्गत नसबंदी में प्रगति लाने के निर्देश बैठक में दिये। सीएमएचओ ने बताया कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत बच्चों के जन्मजात हृदय रोग के 12, कॉकलीयर इम्प्लांट के दो, क्लब पैर के 21, मोतियाबिंद का एक, फंटे होंठ और तालु के 6 और अन्य 37 सहित अन्य 79 सर्जरी की गई है।
मंत्री कुलस्ते ने कहा कि मातृ- मृत्यु दर एवं शिशु मृत्यु दर के लिए विस्तृत रणनीति बनाना सुनिश्चित करें। साथ ही इस संदर्भ में राष्ट्रीय हेल्प मिशन को एक जांच दल भेजने के लिए प्रस्ताव बनाने कहा।
जिला शिक्षा अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले में सुदृढ़ीकरण के अंतर्गत 76 स्वीकृत शालाओं में अतिरिक्त कक्ष, लाइब्रेरी, शौचालय आदि का कार्य पूर्ण हो चुका है। दिशा की बैठक में उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि जिन विद्यालयों में छात्र- छात्राओं की संख्या के अनुपात में शिक्षक अधिक हैं, उन्हें दर्ज संख्या के आधार पर समीप के ऐसे स्कूल जहां शिक्षक पर्याप्त नहीं है, वहां भेजकर युक्तियुक्तकरण किया जाये।विद्युत विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए ट्रांसफार्मर अपडेशन करने के लिए भी अधिकारियों को निर्देशित किया गया।बैठक के उपरांत समिति अध्यक्ष एवं सदस्यों ने कलेक्ट्रेट भवन में चल रहे निर्माण कार्यों का भी अवलोकन किया। कलेक्टर सक्सेना द्वारा बताया गया कि भवन में उच्च स्तरीय निर्माण कार्य कराया जा रहा है।
धर्मेन्द्र 08 नवम्बर 2019