राज्य समाचार

शिवराज सरकार का बड़ा फैसला

18/01/2021

- मप्र की मंडियों में खुलेंगे अस्पताल
- किसानों का होगा मुफ्त इलाज
भोपाल (ईएमएस)। किसानों आंदोलन के बीच मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों को एक बड़ी सौगात देने का प्लान तैयार किया है। इसके तहत मंडियों में शिवराज सरकार जल्द ही किसान क्लीनिक खोलेगी। किसान क्लीनिक से अनाज बेचने वाले किसानों को फायदा मिलेगा। उन्हें सरकार मुफ्त में इलाज देगी। मुफ्त में दवा भी दी जाएगी।
कृषि मंत्री कमल पटेल ने सबसे पहले ए क्लास मंडियों में किसान क्लीनिक खोलने का ऐलान किया है। प्रदेश में करीब 40 ए क्लास मंडिया हैं जो बड़े शहरों में हैं। यहां पर जल्दी किसान क्लीनिक को खोला जाएगा। इसके लिए सरकार ने प्लान भी तैयार कर लिया है। यहां डॉक्टर के लिए संस्थाओं से टेंडर बुलाए जाएंगे। इसके बाद पूरी व्यवस्था की जाएगी। किसानों का इलाज पूरी तरह मुफ्त में होगा। शिवराज सिंह सरकार इसके जरिये चाहती है कि सभी किसानों को दवा भी यहां पूरी तरह मुफ्त मिले। ए क्लास की मंडी के बाद इस पायलट प्रोजेक्ट को प्रदेश की 300 से ज्यादा मंडियों में लागू किया जाएगा।
-बनेंगी स्मार्ट मंडी
पटेल ने कहा कि प्रदेश की मंडियों को स्मार्ट बनाया जाएगा। मंडियों में सभी तरीके की सुविधाएं दी जाएगी। प्रदेश में कोई भी मंडी बंद नहीं होगी। मंडी बंद होने की सिर्फ अफवाह फैलाई जा रही है। फसल बेंचने आए किसानों को सस्ती दरों पर मंडी में ही इलाज मिलेगा। न मंडी बंद होगी न एमएसपी बंद होगी। उन्होंने कहा कि आदर्श मंडी बनाने की शुरुआत पायलेट प्रोजेक्ट के तहत हरदा से होगी शुरू।
-किसानों के स्वास्थ्य का भी रखा गया ध्यान
राज्य शासन के प्लान में स्वास्थ्य को लेकर भी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी। मंडी में आए किसान की अचानक अगर तबियत खराब होती है, तो उसके लिए डॉक्टर की सुविधा भी रहेगी। सरकार किसान क्लीनिक का भी निर्माण करेगी। ताकि इमरजेंसी में प्राथमिक उपचार मिल सके। कृषि मंत्री ने बताया कि, किसानों को उनकी जरूरत की सभी चीजें एक जगह मिल जाएं। इसलिए सरकार प्रदेश में किसान मॉल बनाने जा रही है। उन्होंने बताया कि इस मॉल में किसानों के लिए सभी तरह की सुविधाएं होंगी। किसानों के साथ जो बाजारों में लूट होती है वो बंद हो। कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश की मंडियों में सारी सुविधाएं दी जाएंगी, ताकि हमारी मंडियां अपग्रेड हों और आदर्श मंडी के रूप में स्थापित किया जा सके।
विनोद कुमार उपाध्याय, 18 जनवरी, 2021