खेल

(इन्दौर) विपरित परिस्थितियों में जीते पदक, इन्दौर आगमन पर हुआ अभिनंदन -

06/11/2018

इन्दौर (ईएमएस)। ईरान में सम्पन्न हुई एशियन केनो सलालम चैंपियनशिप में पदक जितने वाले इंदौर के ख‍िलाड़‍ियों का नगर आगमन पर भव्य स्वागत किया गया।
शहर की आहना यादव, शिखा चौहान व सानिया पिंगले ने के-वन अंडर-18 टीम इंवेन्ट में रजत पदक जीता। आहान ने अंडर-23 टीम इंवेन्ट में भी कांस्य जीता। इंदौर के ही प्रद्युम्न सिंह राठौर को श्रेष्ठ नवोदित उभरते खिलाड़ी के पुरस्कार से नवाजा गया। पुरी स्पर्धा में 13 वर्षीय प्रद्युम्न सिंह सबसे कम उम्र के खिलाड़ी थे। कोच कुलदीप सिंह किर थे। महेश्वर में लगे शिविर के दौरान उनकी भी भूमिका अहम थी। यह खिलाड़ी विपरित परिस्थितियों में अंतरराष्ट्रीय पदक जीतकर लाए हैं। सरकार की ओर से ख‍िलाड़‍ियों को कोई आर्थिक मदद नहीं मिली और स्वंय के खर्चे से इन ख‍िलाड़‍ियों ने अभ्यास शिविर व स्पर्धा में आने- जाने का खर्चा उठाया। एक खिलाड़ी को लगभग सवा लाख रुपए का खर्चा आया है। भारत सरकार ने फ्रांस के जिमी ब्रोकन को इस खेल का अधिकारिक कोच नियुक्त कर रखा है। उन पर लाखों रुपए खर्च किए जा रहे हैं लेकिन परिणाम उस अनुरूप नहीं है। एशियाड में तो भारत खाली हाथ लौटा है। ख‍िलाड़‍ियों को आर्थिक मदद नहीं मिल पा रही है। फिर भी शहर के पदक विजेता खिलाडिय़ों का हौसला काफी बुलंद है और उनका कहना है कि हम पीछे नहीं हटेंगे और लगातार बेहतर प्रदर्शन कर आगामी स्पर्धाओं में भी सफल रहेंगे। शहर आगमन पर इन खिलाडिय़ों का अभिनंदन एकलव्यसिंह गौड़, योगेंद्रसिंह राठौर, लोकेन्द्रसिंह राठौर, सागर तोंड़े, अखिलेश पाठक और रविंद्र दुबे ने किया। महापौर मालिनी गौड़, बलविरसिंह कु शवाह तथा प्रशांत कुशवाह ने भी बधाई दी।
उमेश/पीएम/6 नवम्बर 2018