ज़रा हटके

कम्प्यूटर के सामने लंबे समय तक बैठना कर सकता है बीमार

18/09/2019


नई दिल्ली (ईएमएस)। अक्सर लंबे समय तक कम्प्यूटर, लैपटॉप पर काम करने से सिरदर्द, कमर दर्द, गर्दन दर्द की शिकायत होती है। लेकिल क्या आप जानते है कि यह सब आने वाली बड़ी समस्या का यह एक छोटा सा हिस्सा भर है। डॉक्टरों के अनुसार कंप्यूटर पर ज्यादा समय तक काम करने से शरीर का पॉश्चर बिगड़ जाता है। उंगलियों को आराम न मिलने से दर्द होता है, आंखों में चुभन महसूस होती है और धुंधला दिखाई देने लगता है।बता दें कि गलत तरीके से काम करने और लगातार मोबाइल और कंप्यूटर के की-बोर्ड पर उंगलियां चलाने से आंखों पर तनाव पड़ने की समस्या आ जाती है। दरअसल, लगातार कंप्यूटर स्क्रीन से नजरें न हटाने की वजह से और गलत तरीके से बार-बार एक ही दिशा में देखने से आंखों पर स्ट्रेन बढ़ जाता है। इससे आंखों में जलन, चुभन महसूस होना, आंखें सूखी लगना, खुजली होना और उनमें भारीपन, पास की चीजें देखने में समस्या होना, रंगों का साफ दिखाई न देना, एक चीज़ का दो दिखाई देना आदी बीमारी के लक्षण हैं।एक टक कंप्यूटर स्क्रीन को देखते रहने से आंखों के मॉइश्चराइजर पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिससे आंखों की नमी कम हो जाती है। ऐसे में आंखों की इस नमी बनाए रखने के लिए हर एक घंटे पर अपनी आंखों को 5-10 मिनट तक मूंद कर रखें, ताकि आंसू की परत फिर से तैयार हो जाए।ऑर्थोपेडिक ऐंड जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉ. राजीव के शर्मा बताते हैं कि, देर तक गलत पॉश्चर में काम करने से नर्व और हड्डी से जुड़ी समस्याएं भी शुरू हो जाती हैं। हमारे जोड़ों के लिए ‘मोशन’ ‘लोशन’ का काम करता है। फिजिकल ऐक्टिविटी से बॉडी में लिक्विड चीजों का प्रवाह बना रहता है और कार्टिलेज स्वस्थ रहते हैं और हड्डियां मजबूत। गलत पॉश्चर में हर दिन 4 घंटे से अधिक बैठने से जोड़ धीरे-धीरे वीक होते चले जाते हैं और दर्द होना शुरू हो जाता है।
हर्षिता/ईएमएस 18 सितंबर 2019