ज़रा हटके

मास्क पहनने से कम हो सकता है कोरोना का खतरा, इम्यून सिस्टम मजबूत करने में भी मिलेगी मदद: रिपोर्ट

15/09/2020

नई दिल्ली (ईएमएस)। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन और केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा शुरुआती दौर से ही गाइडलाइन्स जारी की जा रही हैं। इनमें मास्क पहनने की अनिवार्यता और सोशल डिस्टेंसिंग के पालन को प्रमुखता दी गई है। इस बीच एक रिसर्च में सामने आया है कि मास्क पहनने से इसके प्रसार को रोकने के साथ-साथ लोगों के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी मदद मिलती है। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में मोनिका गांधी और जॉर्ज डब्ल्यू रदरफोर्ड ने कहा फेस मास्क से कोरोना के संक्रमण को कम किया जा सकता है। साथ ही इससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद मिल सकती है। गांधी और रदरफोर्ड ने अनुमान लगाया कि यदि वायरल कोरोना संक्रमण की गंभीरता को निर्धारित करने में मायने रखता है तो चेहरे के मास्क पहनने से संक्रामक की मात्रा को कम करता है। जर्नल में कहा गया है चूंकि मास्क कुछ वायरस युक्त बूंदों को फ़िल्टर करते हैं, इसलिए मास्क पहनने से इनोकुलम कम होता है।
गांधी और रदरफोर्ड ने लिखा, ”वैक्सीन की उम्मीद न केवल संक्रमण की रोकथाम पर टिकी है। अधिकांश टीके परीक्षणों में बीमारी की गंभीरता में कमी का एक माध्यमिक परिणाम शामिल है, क्योंकि उन मामलों के अनुपात में वृद्धि होती है जिनमें रोग हल्के या स्पर्शोन्मुख होते हैं। मास्क पहनने की आदत नए संक्रमण की दर को कम कर सकता है। हम इस बात की परिकल्पना करते हैं कि नए वायरल संक्रमणों की दर को कम करके, यह संक्रमित लोगों के अनुपात को भी कम कर देगा जो स्पर्शोन्मुख बने रहते हैं।
अनिरुद्ध/ईएमएस 15 सितम्बर 2020