राज्य समाचार

दिग्विजय को प्रत्याशी बनाने से उडी भाजपा की नींद

26/03/2019


अब तक प्रत्याशी तो तय नहीं कर पाई भाजपा
भोपाल (ईएमएस)। भोपाल लोकसभा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को कांग्रेस द्वारा प्रत्याशी बनाए जाने की घोषणा कर दी है। इसके बाद से भाजपा नेताओं की नींद उड़ी हुई है। पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के मुकाबले भाजपा अब तक प्रत्याशी तो तय नहीं कर पाई, लेकिन पार्टी नेताओं की खींचतान सामने आ गई। पार्टी ने पहले पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भोपाल से चुनाव लड़ने का ऑफर दिया तो उन्होंने यह कहकर मना कर दिया कि वे प्रदेश की राजनीति में ही रहना चाहते हैं पर उनके इनकार के बाद जब केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को भाजपा ने मुरैना से भोपाल शिफ्ट करने पर विचार करना शुरू किया तो शिवराज ने चुनाव लड़ने पर सहमति दे दी। गौरतलब है कि पिछले एक पखवाड़े से भोपाल के स्थानीय नेताओं द्वारा बाहरी प्रत्याशी न दिए जाने के लिए बयानबाजी की जा रही थी। इसकी वजह भी यही थी कि तोमर को भोपाल से प्रत्याशी नहीं बनने दिया जाए।
भाजपा के जानकारों की माने तो मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा दिग्विजय सिंह को कठिन सीट भोपाल का प्रत्याशी बनाए जाने के बाद से ही भाजपा ने प्रत्याशी की तलाश शुरू कर दी थी। हाईकमान ने दिल्ली में चर्चा कर जो नाम विचार में लिए, उसमें सबसे पहला नाम राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान का था। चौहान को चुनाव लड़ने के लिए सहमत कराने की जिम्मेदारी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह को दी गई। सिंह भोपाल आए और रविवार को चौहान से इस बारे में बातचीत की। पहले तो चौहान ने मना कर दिया पर जब पार्टी ने तय किया कि चौहान के चुनाव नहीं लड़ने पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को मुरैना के बजाय भोपाल से चुनाव लड़वाने पर विचार किया जाए। इसके बाद घटनाक्रम पलटा और चौहान ने सहमति दे दी। अब सारा दारोमदार हाईकमान पर है कि वह किसे प्रत्याशी बनाता है। वैसे प्रदेश के दोनों ही दिग्गज नेता है और पूर्व सीएम भी रहे हैं, ऐसे में मुकाबला काफी रोचक होने की पूरी संभावना है।
सुदामा नर-वरे/26मार्च2019