ज़रा हटके

बीपी कंट्रोल से लेकर वज़न कम करने तक, कई समस्याओं का समाधान है सेंधा नमक

01/12/2020

-फास्फोरस, कैल्शियम, पोटेशियम और आयरन से भरपूर सेंधा नमक में नहीं होता कोई केमिकल
नई दिल्ली(ईएमएस)। ज़रूरत से ज़्यादा नमक कई बीमारियों की वजह बन सकता है, लेकिन आयुर्वेद में सेंधा नमक को बेहद फायदेमंद माना गया है। सेंधा नमक में पाए जाने वाले मिनरल्स हमें कई तरह की बीमारियों से बचाने का काम करते हैं। यह नमक पाचक रसों का निर्माण करता है, इसलिए यह पाचन को दुरुस्त रखने का काम भी करता है। आजकल सेंधा नमक का इस्तेमाल काफी कम लोग करते हैं। इसे ज़्यादातर लोग सिर्फ व्रत के समय खाते हैं। लेकिन नमक का ये फॉर्म हमारी सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। ये काफी शुद्ध नमक होता है जिसमें किसी तरह का केमिकल या दूसरा तत्व मौजूद नहीं होता है। इसमें कुदरती तौर पर कई खनिज तत्व मौजूद होते हैं। इसके अलावा, इसमें फास्फोरस, कैल्शियम, पोटेशियम और आयरन काफी मात्रा में होते हैं। इन सबकी मौजूदगी आपके शरीर को फायदा पहुंचाती है और आपको कई बीमारियों और परेशानी से दूर रखती है।
आयुर्वेद के जानकारों के मुताबिक सेंधा नमक स्ट्रेस कम को कम करता है। इसी के साथ यह सेरोटोनिन और मेलाटोनिन हार्मोन्स का बैलेंस बनाएं रखता है जो तनाव से लड़ने में मदद करते हैं। ये शरीर में बढ़े कोलेस्ट्रॉल को भी कम करने में असरदार होता है। इससे आप दिल की बीमारियों से दूर रहते हैं और हार्ट अटैक का भी खतरा कम होता है और स्वस्थ रखता है। सेंधा नमक हाई ब्लडप्रेशर को कंट्रोल करने में काफी लाभदायक है। यह नमक मांसपेशियों के दर्द और ऐंठन के साथ ही ज्वाइंट्स पेन को भी कम करता है। सेंधा नमक से सि‍काई से दर्द में राहत भी मिलती है। अस्थमा, डायबिटीज और आर्थराइटिस के मरीजों के लिए सेंधा नमक का सेवन काफी फायदेमंद होता है। बढ़ते वज़न को कम करने में भी ये नमक मददगार साबित होता है। हर सुबह एक गिलास गर्म पानी में सेंधा नमक मिलाकर पिएं। ये मेटाबॉलिज़म बढ़ने से बॉडी में जमा फैट धीरे-धीरे निकलता जाता है। साइनस का दर्द पूरे शरीर को तकलीफ देता है और इससे छुटकारा पाने के लिए सेंधा खाना फायदेमंद रहता है। अगर स्टोन की प्रॉब्लम है तो सेंधा नमक और नींबू को पानी में मिलाकर पीने से कुछ ही दिनों में पथरी गलने लगती है।
पवन सोनी/ईएमएस 01दिसम्बर 2020