ज़रा हटके

वॉट्सऐप कर रहा यूजर्स “कानूनी” नामों की पहचान

16/05/2022

-यूजर्स के प्रोफाइल नाम कुछ होते हैं और बैंक खातों में अलग
नई दिल्ली (ईएमएस)। सोशल मीडिया प्लेटफार्म वॉट्सऐप ने उन यूजर्स के “कानूनी” नामों की पहचान करना शुरू कर दिया है, जिन्होंने अपने ऐप पर यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) आधारित भुगतान सुविधा शुरू की हुई है। वाटसऐप यूजर्स के प्रोफाइल नाम कुछ होते हैं और बैंक खातों में अलग। वॉट्सऐप इन नामों की खोजबीन करके उन लोगों को भी दिखाएगा जो वॉट्सऐप के माध्यम से भुगतान प्राप्त करते हैं।
मेटा के स्वामित्व वाले इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप ने कहा कि नया कदम नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) द्वारा निर्धारित यूपीआई दिशानिर्देशों का परिणाम है, जिसका उद्देश्य धोखाधड़ी को रोकना है। नए अपडेट के बारे में यूजर्स को सूचित करने के लिए वॉट्सऐप ने अपने ऐप में एक नोटिफिकेशन देना शुरू कर दिया है जिसमें कानूनी नाम की आवश्यकता का विवरण देने वाले अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न का लिंक होता है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि जब कोई यूजर वॉट्सऐप के माध्यम से कोई भुगतान करेगा तो जिस यूपीआई यूजर्स को वह पेमेंट कर रहा है उसका कानूनी नाम वह देख पाएगा। एनपीसीआई द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए मार्च के अंत से एंड्रॉयड और आईओएस, दोनों पर यूजर्स के लिए नोटिफिकेशन जारी करना शुरू कर दिया गया है।
यह वॉट्सऐप के हेल्प सेक्शन में एक नए शॉर्टकट के रूप में दिखाई देता है, जिसका नाम अबाउट यूपीआई पेमेंट्स और कानूनी नाम है, जो एफएक्यू पेज का लिंक देता है। इसमें सवाल पूछा गया है- आपके बैंक खाते से जुड़ा नाम वह नाम है जिसे साझा किया जाएगा।आमतौर पर, वॉट्सऐप यूजर्स के पास 25 वर्णों तक का कोई भी नाम चुनने का विकल्प होता है, जिसे वे ऐप पर उपयोग करना चाहते हैं। यूजर्स खुद को अलग दिखने के लिए अपने प्रोफ़ाइल नाम में इमोजी भी शामिल कर सकते हैं। हालांकि, नई आवश्यकता ने ऐप के लिए अपने यूजर्स के वास्तविक नामों की पहचान करना और उन्हें साझा करना अनिवार्य बना दिया है, जो उनके बैंक खातों के अनुसार हैं।
सुदामा/ईएमएस 16 मई 2022