क्षेत्रीय

कृषि मंत्री कमल पटैल ने किया बरमान मेले का उद्घाटन

13/01/2021

मेले जीवन का अभिन्न अंग - मेलों से आपसी मेलजोल बढ़ता है
नरसिंहपुर (ईएमएस)। प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री कमल पटैल ने नरसिंहपुर जिले में नर्मदा नदी के तट पर मकर संक्रांति के अवसर पर लगने वाले प्रसिद्ध बरमान मेला का उद्घाटन नर्मदा नदी की पारंपरिक ढंग से पूजा- अर्चना कर बुधवार को किया।
इस अवसर पर सांसद राव उदय प्रताप सिंह, विधायक संजय शर्मा, पुलिस अधीक्षक अजय सिंह, जिला भाजपा अध्यक्ष अभिलाष मिश्रा, अपर कलेक्टर मनोज ठाकुर, जिला पंचायत अध्यक्ष संदीप पटैल व उपाध्यक्ष श्रीमती शीलादेवी ठाकुर, मुलाम पटैल, सीईओ जिला पंचायत केके भार्गव, महेश चौधरी, जिला पंचायत सदस्य गौतम पटैल व श्रीमती वंदना पटैल, श्रीमती रामवती पटैल, राजीव ठाकुर, अन्य जनप्रतिनिधि व अधिकारी और श्रद्धालु मौजूद थे।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुये कृषि मंत्री कमल पटैल ने कहा कि हमारे यहां मेले का आयोजन उत्सव के रूप में किया जाता है। मेले भारतीय संस्कृति और जीवन का अभिन्न अंग है। मेले की जीवन्त परम्परा हमें पूर्वजों से मिली है, इसे हमें आगे भी बनाये रखना है। मेले अनेकता में एकता की भारत की विशेषता है। बच्चे, युवा, महिलायें, बुजुर्ग सभी नर्मदा में स्नान कर पुण्य प्राप्त कर मेले का आनंद लेते है और घर की आवश्यक वस्तुएं खरीदतें है। मेले में आपसी मेलजोल बढ़ता है। उन्होंने मकर संक्रांति की सभी को बधाई दी।
श्री पटैल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी का संकल्प है कि देश और यहां के नागरिक आत्मनिर्भर बनें। जब तक किसान आत्मनिर्भर नहीं होंगे तब तक भारत आत्मनिर्भर नहीं होगा। हम सब मिलकर किसान, मजदूर, युवाओं को आत्मनिर्भर बनायें। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने भारतीय संस्कृति के उच्च जीवन मूल्यों का दुनिया में प्रचार- प्रसार किया। हमारी सर्वश्रेष्ठ जीवन शैली और सर्वश्रेष्ठ संस्कृति के कारण भारत विश्वगुरू रहा है। 21वीं सदी भारत की होगी। यह 21वीं सदी का 21 वां साल है इस लिए हम सबको मिलकर भारत को पुन: विश्वगुरू बनाने के लिए संकल्पि‍त होना होगा। इसके लिए राष्ट्र को जीवन समर्पित करें। हर सब मिलकर भारत को सिरमौर बनायेंगे और स्वामी विवेकानंद का सपना पूरा करेंगे और राष्ट्र को शक्तिशाली बनायेंगे।
कृषि मंत्री श्री पटैल ने कहा कि गांवों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाया जायेगा। केन्द्र एवं राज्य सरकार ऐसी योजनायें लागू कर रही है कि किसान खेती भी करेंगे और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग भी स्थापित करेंगे। व्यापार एवं व्यवसाय में भी सहभागी बनेंगे। कृषि आधारित उद्योगों के लिए एक लाख करोड़ रूपये का फंड भी मिलेगा। हमारी भूमि उर्वरा है और यहां के किसान मेहनती हैं। किसानों की उन्नति के लिए सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी।
कार्यक्रम में सांसद श्री राव उदय प्रताप सिंह ने कहा कि मां नर्मदा की कृपा सब पर बरसती है। बरमान मेले का पौराणिक, ऐतिहासिक एवं धार्मिक महत्व है। यह मेला अनेक वर्षों से निरंतर आयोजित किया जा रहा है। यहां पुलिस और जिला प्रशासन द्वारा बेहतर व्यवस्था के सभी प्रबंधक किये जाते है। मध्यप्रदेश सरकार ने बरमान मेला स्थल पर पुल निर्माण कराया है। तत्कालीन लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह ने पुल की सौगात दिलाई है। इस पुल से बरमान कलां एवं बरमान खुर्द में नर्मदा के दोनों तटों को जोड़ा गया है। पुल निर्माण के कारण लोगों को आवाजाही में सहूलियत होगी। और व्यापार भी बढ़ेगा। उन्होंने दीपा मंदिर के महत्व को भी रेखांकित किया।
विधायक संजय शर्मा ने नागरिकों को मकर संक्रांति की बधाई दी। श्री शर्मा ने कहा कि बरमान को ब्रम्हा जी की तपोस्थली माना जाता है। बरमान का मेला प्राचीन मेला है। यहां श्रद्धालु बड़ी संख्या में अपनी मनोकामना लेकर नर्मदा में स्नान के लिए आते है। मेला की भव्यता को लगातार बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि श्रद्धालु और व्यापारी कोरोना का ध्यान रखतें हुये मेले की व्यवस्था में सहयोग करें।
नर्मदा की महाआरती
प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री कमल पटैल, सांसद राव उदय प्रताप सिंह और अन्य जनप्रतिनिधियों ने नर्मदा जी की महाआरती की।
ईएमएस, 13 जनवरी, 2021