राज्य समाचार

भोपाल में 64 नए मामले मिले

10/07/2020

- स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के चार कर्मचारियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव, सीआरपीएफ के दो जवान संक्रमित
भोपाल (ईएमएस)। राजधानी भोपाल में शुक्रवार को कोरोना वायरस के 64 नए मामले सामने आए हैं। अब राजधानी में संक्रमितों की संख्या 3417 हो गई है। इनमें से 2577 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर पहुंच चुके हैं। अब जिले में इस महामारी के कारण अब तक 116 लोगों की मौत हो चुकी है। शुक्रवार को मिले मामलों में तीन अरेरा कालोनी, इब्राहिमगंज में एक, सीआरपीएफ के दो जवान, स्टेट बैंक आफ इंडिया के लोकल हेड ऑफिस के चार कर्मचारी और हमीदिया अस्पताल और जहांगीराबाद में एक-एक मरीज मिला है।
इधर, भोपाल में इब्राहिमगंज को 12 जुलाई यानि रविवार सुबह से 19 जुलाई की रात तक के लिए टोटल लॉकडाउन कर दिया गया है। यहां पर रविवार से आवश्यक चीजों की सप्लाई भी नगर निगम करेगा। वहीं भोपाल में 742 कोरोना संक्रमितों का अस्पताल, क्वारेंटाइन सेंटर और होम आइसोलशन में इलाज चल रहा है। कोरोना से संक्रमित 36 लोगों को स्वस्थ होने पर आज अस्पताल से छुट्टी दी गई है।
इन इलाकों में भी मिले कोरोना संक्रमित
भोपाल में शुक्रवार को चौकसे नगर करौंद में एक, कटरा हिल्स से एक, बावडिय़ा कला में तीन, लखेरापुरा क्षेत्र से तीन और जीएसी से तीन लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इन सभी लोगों को सभी को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा है। भोपाल कलेक्टर आज एडवाइजरी जारी कर सकते हैं। कलेक्टर ने बताया कि इस क्षेत्र में लागातर बढ़ते कोविड संक्रमण और मास्क नहीं लगाने, सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं करने, बिना काम के सार्वजनिक जगहों पर घूमने के कारण ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गई है, जिससे क्षेत्र की जनता को संक्रमण से बचाने के लिए टोटल लॉकडाउन का निर्णय लिया गया है।
दवा-दूध और किराने की सप्लाई भी निगम करेगा
कलेक्टर द्वारा जारी आदेश के मुताबिक इस क्षेत्र में दूध, दवा, किराना समेत सभी दुकानें बंद रहेंगी। नगर निगम जरूरी सामान की सप्लाई करेगा। यहां लोगों की आवाजाही पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगी। सारी व्यवस्थाओं की मॉनिटरिंग प्रशासन करेगा। यहां बीते एक हफ्ते में 50 संक्रमित मिल चुके हैं। क्षेत्र के एसडीएम जमील खान ने बताया कि लॉकडाउन की तैयारी शुरू हो गई हैं। क्षेत्र को सील किया जाएगा।
रविवार को बाजारों में बढ़ रही थी भीड़
रविवार को पूर्णबंदी के लिए गृह विभाग की ओर से जारी की गई एडवाइजरी के मुताबिक, बाजार बंदी के दौरान सिर्फ अत्यावश्यक सेवाएं ही सुचारू रहेंगी। रविवार का दिन इसलिए चुना गया, क्योंकि अनलॉक-1 के बाद से साप्ताहिक अवकाश होने के कारण रविवार को लोग परिवार के साथ बाहर निकलने लगे थे और भीड़ एकत्रित होने से संक्रमण बढऩे का खतरा भी बढ़ रहा था।
एडवायजरी में कहा- धारा-144 लागू की जाए
मध्य प्रदेश के लिए जारी एडवाइजरी में जिलों के प्रशासन से कहा गया है कि लोगों को घरों से बाहर निकलने से रोका जाए। जहां भीड़ एकत्रित हो, वहां धारा 144 लागू की जाए। जिला कलेक्टरों को ये अधिकार दे दिए गए हैं ताकि वे अपने जिले की ताजा स्थिति पर डिस्ट्रिक्ट क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से चर्चा करके फैसला ले लें। एडवाइजरी में कहा गया है कि पड़ोसी राज्यों के समीपवर्ती जिलों में संक्रमण पर पूरी तरह नजर रखें। लोगों की आवाजाही को नियंत्रित करें।
विनोद/ दशरथ / 10 जुलाई 2020