ज़रा हटके

4 में से 1 भारतीय मोटापे से ग्रस्त, हो रहा ओबेसिटी का शिकार : एनएफएचएस-5 रिपोर्ट

09/05/2022

नई दिल्ली (ईएमएस)। चार भारतीयों में एक मोटापे से ग्रस्त है यह आंकड़ा राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 (एनएफएचएस-5) के आधिकारिक रिपोर्ट से पता चलता है। इस रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रीय स्तर पर मोटापा महिलाओं में 21 प्रतिशत से बढ़कर 24 प्रतिशत और पुरुषों में 19 प्रतिशत से बढ़कर 23 प्रतिशत हो गया है। वहीं, देश की कुल प्रजनन दर (टीएफआर) घटकर अब प्रति महिला 2 बच्चे रह गई है, जो प्रजनन क्षमता के प्रतिस्थापन स्तर से नीचे है। विशेषज्ञों का कहना है कि दर पर जनसंख्या अब से 40 वर्षों में स्थिर हो जाएगी।
हालांकि, लोगों में मोटापे का बढ़ना चिंता का विषय है। क्योंकि यह कई गैर-संचारी और प्रगतिशील बीमारियों जैसे उच्च रक्तचाप, मधुमेह और यकृत से संबंधित बीमारियों और स्ट्रोक के बढ़ते जोखिम का प्रमुख कारण है। डॉक्टरों का भी कहना है कि भारत तेजी से मोटे लोगों का देश बनता जा रहा है। नोएडा फोर्टिस हॉस्पिटल के डॉक्टर वीएस चौहान ने बिजनेस स्टैंडर्ड को बताया कि भारत में लगभग 25 प्रतिशत पुरुष और महिलाएं अधिक वजन और मोटापे से ग्रस्त हैं, जो चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि मोटापा शहरों में ज्यादा देखा जाता है, जिससे युवा तेजी से पीड़ित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय आबादी का 5 प्रतिशत तक अब किसी रोग के साथ मोटापे से ग्रस्त है। 32.5 किग्रा/मी2 से अधिक का बॉडी मास इंडेक्स मोटापे में गिना जाता है। ग्रामीण पुरुष और महिलाएं अपने शहरी समकक्षों की तुलना में पतले हैं। मोटे लोगों की जनसंख्या का प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों (20 प्रतिशत) की तुलना में शहरी (33 प्रतिशत) क्षेत्रों में अधिक है। साथ ही, अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त पुरुषों और महिलाओं के अनुपात में लगातार वृद्धि हो रही है। पुडुचेरी (46 फीसदी), चंडीगढ़ (44 फीसदी), दिल्ली, तमिलनाडु और पंजाब (41 फीसदी प्रत्येक) में मोटापे से ग्रस्त महिलाओं का अनुपात सबसे ज्यादा है।
केरल और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह (38 प्रतिशत) में भी मोटापे से ग्रस्त महिलाओं का प्रतिशत अधिक है। इसकी तुलना में, झारखंड और बिहार के बाद गुजरात में दुबली महिलाओं का अनुपात सबसे अधिक है। दूसरी ओर, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में अधिक वजन वाले पुरुषों (45 प्रतिशत) का अनुपात सबसे अधिक है, इसके बाद पुडुचेरी (43 प्रतिशत) और लक्षद्वीप (41 प्रतिशत) हैं। बिहार, मध्य प्रदेश और गुजरात में दुबले-पतले पुरुषों की हिस्सेदारी सबसे ज्यादा है। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों में स्टंटिंग का स्तर (शरीर का विकास रुक जाना) पिछले चार वर्षों में 38 से 36 प्रतिशत तक मामूली रूप से कम हो गया है।
विपिन/ईएमएस 09 मई 2022