राज्य समाचार

कमाल के नाथ, बिजली बिल भी हॉफ

12/02/2019

-एक के बाद एक वचन पूरा कर रहे मुख्यमंत्री
- 472 रुपये का लाभ हर व्यक्ति को
-इंदिरा गृह ज्योति योजना लागू, 100 रुपए आएगा बिल
-शिवराज की संबल योजना में 200 रुपये थे बिल
- अब संबल बंद करके मात्र 100 रुपये किया बिल
भोपाल, ईएमएस। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ जनता के लिए कमाल के नाथ साबित हो रहे हैं। किसान कर्ज माफी, किसानों का बिजली बिल आधा करने के बाद अब गरीबों के बिल को भी हॉफ कर दिया है। मुख्यमंत्री नाथ की महात्वाकांक्षी योजना इंदिरा गृह ज्योति योजना लागू कर दी गई है। उपभोक्ताओं को मार्च माह से मिलना शुरू हो जाएगा। इसका सीधा फायदा उपभोक्ताओं को होगा। यदि आपके घर में एक महीने में 100 यूनिट बिजली की खपत है तो इसका बिल भी 100 रुपए ही आएगा। इस योजना का लाभ प्रदेश के प्रत्येक बिजली उपभोक्ता को मिलेगा। कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र(वचन पत्र) में बिजली बिल कम करने का वादा प्रदेश की जनता से किया था। इस योजना से इस दौरान आने वाले भारी-भरकम बिल से भी राहत मिलेगी। मार्च महीने में उपभोक्ताओं को जो बिल मिलेंगे उनमें 472.93 रुपए कम हो जाएंगे और ग्रामीण उपभोक्ता के बिल में 447.93 रुपए कम होंगे।
-1500 के बिल में 472 का फायदा
अगर आपका बिजली बिल 1500 रुपए महीने आता है तो आपको मार्च से सिर्फ 1028 रुपए ही भरने होंगे। यानी 472 रुपए का फायदा मिलेगा। सरकार यह राशि सब्सिडी के रूप में जमा करेगी। सरकार के आदेश के बाद विद्युत वितरण कंपनियां अपना बिलिंग सॉफ्टवेयर अपडेट करा रही हैं। ये काम 25 फरवरी तक पूरा हो जाएगा।
-62 लाख लोगों को फायदा
फिलहाल 101 से अधिक यूनिट के लिए उपभोक्ताओं को 6 रुपए प्रति दर के हिसाब से भुगतान करना होता है। सरकार द्वारा 100 यूनिट प्रति महीने का फॉर्मूला लागू करने से सरल बिलजी योजना के हितग्रहियोंं पर प्रभाव पड़ सकता है। इस योजना से प्रदेश के 62 लाख उपभोक्ताओं को लाभ मिलेगा।
-तेन्दूपत्ता संग्रहण पारिश्रमिक में 500 रुपये की वृद्धि
राज्य शासन ने तेन्दूपत्ता संग्राहकों की पारिश्रमिक दर में 500 रुपये प्रति मानक बोरा की वृद्धि की है। अब संग्राहकों को 2000 रुपये के स्थान पर 2500 रुपये प्रति मानक बोरा पारिश्रमिक का भुगतान किया जायेगा। संग्राहकों को पारिश्रमिक और बोनस का नगद भुगतान किया जायेगा। वन मंत्री उमंग सिंघार ने यह जानकारी देते हुए बताया कि राज्य सरकार ने अपने वचन-पत्र में वनोपज संग्राहकों से किया गया वादा पूरा कर दिया है। उन्होंने कहा कि पारिश्रमिक में 500 रुपये की वृद्धि किये जाने से संग्राहकों को आगामी सीजन में 110 करोड़ रुपये से भी अधिक पारिश्रमिक का भुगतान किया जायेगा। राज्य सरकार के इस निर्णय से 33 लाख 12 हजार संग्राहक लाभान्वित होंगे और लगभग 22 लाख तेन्दूपत्ता मानक बोरा तेन्दूपत्ता संग्रहण संभव होगा। गौरतलब है कि तेन्दूपत्ता संग्रहण वर्ष 2018 में 19 लाख 14 हजार मानक बोरा तेन्दूपत्ता का संग्रहण किया गया। संग्राहकों को 2000 रुपये प्रति मानक बोरा की दर से 382 करोड़ 80 लाख संग्रहण पारिश्रमिक का भुगतान किया गया। इससे एक माह में पौने दो करोड़ मानव दिवस का सृजन हुआ।
-बुजुर्ग यात्रियों को लेकर कुंभ स्पेशल ट्रेन रवाना
मंगलवार को भोपाल के हबीबगंज स्टेशन से यात्रियों को लेकर ट्रेन प्रयागराज के लिए रवाना हो गई। जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने ट्रेन को हरी झंडी दिखायी। यह यात्रा 24 फरवरी तक चलेगी। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा था कि सरकार प्रदेश के गऱीब बुजुर्गों को कुंभ यात्रा कराएगी। नाथ ने करीब 3 हजार 600 यात्रियों को कुंभ यात्रा कराने का फैसला किया है। इसके लिए 4 स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही हैं।
-25 हजार दिव्यांगों को 500 के बजाय 2 हजार !
प्रदेश के 25 हजार से ज्यादा बहु दिव्यांगों (मानसिक, शारीरिक दिव्यांगता एक साथ होना) को राज्य सरकार दो हजार रुपए प्रति माह की सहायता देगी। सामाजिक न्याय विभाग ने इसका प्रस्ताव तैयार कर कैबिनेट की स्वीकृति के लिए भेज दिया है। अब तक इन दिव्यांगों को पांच सौ रुपए महीना सहायता दी जा रही थी। कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के दौरान अपने वचन पत्र में इसका जिक्र किया था।
दीपक राय, १२ फरवरी, २०१९