व्यापार

भारत से ब्रिटेन को फलों और सब्जियों के निर्यात पर ब्रेग्जिट का पड़ सकता है असर

15/03/2019

पुणे (ईएमएस)। ब्रेग्जिट की वजह से पौंड में उतार-चढ़ाव का भारत से ब्रिटेन को फलों और सब्जियों के ‎निर्यात पर मामूली असर पड़ सकता है। भारत से यूरोपियन यूनियन को होने वाले ‎निर्यात का सबसे बड़ा हिस्सा ब्रिटेन जाता है। भारत ने 2017-18 में ब्रिटेन को 168 करोड़ रुपए की ताजी सब्जियों और 12.7 करोड़ रुपए के प्याज का निर्यात किया था। देश से प्रतिदिन 30-50 टन सब्जियां ब्रिटेन भेजी जाती हैं। इसमें गर्मी के सीजन में लगभग 20 पर्सेंट की कमी आती है क्योंकि उस समय दक्षिणी यूरोप से सब्जियों की आवक बढ़ जाती है। भारतीय निर्यातकों का मानना है ‎कि ब्रिटेन के ईयू से हटने पर उन्हें दक्षिणी यूरोप से प्रतिस्पर्धा नहीं करनी पड़ेगी। भारत में आम का मौसम शुरू होने वाला है और व्यपारियों को इसका बड़ी मात्रा में निर्यात होने की उम्मीद है। भारत से आम का आयात करने में ब्रिटेन दूसरे स्थान पर है। 2017-18 में देश से आम का 382 करोड़ रुपए का निर्यात हुआ था और इसमें ब्रिटेन की हिस्सेदारी लगभग 48 करोड़ रुपए की थी। देश से अंगूर का भी बड़ी मात्रा में निर्यात किया जाता है। हालांकि अंगूर के ‎‎निर्यात का सीजन समाप्त होने जा रहा है और इस पर ब्रेग्जिट का असर नहीं पड़ेगा। भारत से आयात के लिहाज से ब्रिटेन तीसरे स्थान पर है। देश से इस सीजन में अभी तक यूरोपियन यूनियन को 79,867 टन अंगूर का निर्यात हुआ है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि से 27 फीसदी अधिक है।
सतीश मोरे/15मार्च
---