क्षेत्रीय

सभी अधिकारी करीला मेला का कार्य श्रद्धापूर्वक करें- कमिश्नर

22/03/2019

कमिश्नर एवं आईजी ने लिया करीला मेला की तैयारियों एवं व्यवस्थाओं का जायजा
अशोकनगर (ईएमएस)। रंगपंचमी पर करीला धाम माता जानकी मंदिर पर आयोजित होने वाले तीन दिवसीय मेला में सभी नोडल अधिकारी पूर्ण जिम्मेदारी एवं ईमानदारी के साथ श्रद्धापूर्वक सौपें गए दायित्वों का निर्वहन करें। इस आशय के निर्देश कमिश्नर ग्वालियर संभाग बीएम शर्मा द्वारा बुधवार को करीला रेस्ट हाउस में आयोजित करीला मेला की तैयारियों एवं व्यवस्थाओं के संबंध में आयोजित बैठक के दौरान दिए।
कमिश्नर श्री शर्मा ने कहा कि करीला धाम में लगने वाले वार्षिक मेले की व्यवस्थाएं बेहतर हों यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि इस मेले में दूरदराज से लाखों श्रद्धालु माता जानकी की सेवा में श्रद्धा सुमन अर्पित करने तथा दर्शन करने यहां आते हैं। श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए सभी व्यापक तैयारियां समय से पूर्ण हो यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि अधिकारी अपने दायित्वों के निर्वहन में कसौटी पर खरा उतरें और बेहतर सेवाभाव से कार्य करें। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं के लिए सुगम आवागमन, पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था, शुद्ध पेयजल एवं माता जानकी माता के दर्शन हेतु आवश्यक सुरक्षा के साथ सुविधाएं एवं व्यवस्थाएं कराई जाएं। अधिकारी मेले में पूरी ईमानदारी के साथ तीन दिन अपने कर्तव्यों का पूरी ईमानदारी के साथ पालन करें। आईजी राजाबाबू सिंह ने कहा कि प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी मेले में सुरक्षा व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त रहेगी। पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात रहेगा। मेले को 6 सेक्टर में विभाजित कर चौकियां स्थापित की गई है, जिससे पर्याप्त पुलिस बल रहेगा। कलेक्टर डॉ. मंजू शर्मा ने बताया कि करीला मेला में पहुंचने हेतु तीन एप्रोच रोड है जिन की मरम्मत एवं चौड़ीकरण का कार्य कराया गया है। मेला परिसर के अंदर 6 जोन बनाए गए है, इन 6 जोन पर पुलिस के साथ सेक्टर मजिस्ट्रेट की ड्यूटी लगाई गई है। मेला परिसर के चारों ओर साफ सफाई नगरपालिका द्वारा करवाई जा रही है। मेले को पॉलीथिन मुक्त रखा गया है। साथ ही स्वच्छता को दृष्टिगत रखते हुए जगह जगह डस्टबिन रखवाये गए है। सूखा एवं गीला कचरा के निष्पादन हेतु पेट बनवाए गए है। सुरक्षा व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुए फायर बिग्रेड की व्यवस्था कराई गई है। साथ ही विभिन्न स्थानों पर सेक्टर मजिस्ट्रेट तैनात किए गए है। अगरबत्ती नारियल निश्चित स्थान पर एकत्रित किए जाने की व्यवस्था की गई है। मंदिर परिक्रमा मार्ग एवं दर्शन की व्यवस्था हेतु सभी आवश्यक सुरक्षा व्यवस्था की गई है। विद्युत की व्यवस्था हेतु 27 बिजली के खंभे लगवाए जा कर अनवरत बिजली सप्लाई की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही जनरेटर की व्यवस्था मेला परिसर में रहेगी। मेला परिसर की विभिन्न स्थानों पर 4 एलईडी लगवाई गई है जिस पर डिस्प्ले का प्रदर्शन होता रहेगा। मेले में सीसीटीवी कैमरे लगवाये गये है। कैमरों की मदद से पूरे मेला परिसर की मॉनीटरिंग कंट्रोल रूम के द्वारा की जायेगी। स्वास्थ्य सेवा हेतु 20 डॉक्टर सहित 60 कर्मचारी की ड्यूटी लगाई गई है। साथ ही 6 पुलिस सेक्टर में 36 कर्मचारियों को स्वास्थ्य सेवा हेतु तैनात किया गया है। मेले में 15 एंबुलेंस की व्यवस्था कराई गई है। सभी पर्याप्त आवश्यक दवाएं उपलब्ध रहेगी। पुलिस अधीक्षक श्री कुमावत ने बताया कि सुरक्षा व्यवस्था एवं आवागमन को सुचारू बनाने के लिए बैरिकेटिग व्यवस्था कराई गई है। रात्रि में श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की परेशानी ना हो इस हेतु पर्याप्त लाईटिंग की व्यवस्था की गई है। यातायात व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुए ड्रॉप गेट बनाये गये है। कोंचा डेम पर होमगार्ड के गोताखोरों की व्यवस्था कराई गई है। उन्होंने बताया कि अन्तरजिला अधिकारियों समन्वय कर समुचित व्यवस्थाएं कराई गई है। ओवरलोडिंग यातायात व्यवस्था कर विशेष ध्यान दिया जाएगा। मेला परिसर में अनाउंसमेंट की व्यवस्था की गई है। साथ ही खोया पाया केंद्र बनाया गया है। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को पुलिस का व्यवहार सहयोगात्मक एवं मृदुल होगा यह सुनिश्चित किया गया है। इस कार्य में करीला ट्रस्ट के वालेंटियरों का सहयोग लिया जाएगा। बैठक में आईजी ग्वालियर संभाग राजा बाबू सिंह, कलेक्टर डॉ. मंजू शर्मा, पुलिस अधीक्षक पंकज कुमावत, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत अजय कटेसरिया, अपर कलेक्टर अनुज रोहतगी, जिला अधिकारी एवं मेला हेतु नियुक्त नोडल अधिकारी उपस्थित थे।
प्रवीण/22/03/2019