राष्ट्रीय

केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने किए 5 एमओयू

14/09/2021

कृषि क्षेत्र के डिजिटलाइजेशन से किसानों के साथ देश को लाभ: तोमर
नई दिल्ली (ईएमएस)। किसानों के हितों के लिए प्रतिबद्ध केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कृषि क्षेत्र पर फोकस करते हुए किसानों के लिए सुविधाएं लगातार बढ़ाई जा रही है। इसी क्रम में पायलेट प्रोजेक्ट संचालन के लिए केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने पांच कंपनियों के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। ये हैं- सिस्को, 63आइडिया इंफोलैब्स प्राइवेट लिमिटेड (निंजाकार्ट), जियो प्लेटफॉर्म्स लि. (रिलायंस), एनसीडीईएक्स ई-मार्केट्स लि. (एनईएमएल) व आईटीसी लि.। मुख्य अतिथि केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कृषि क्षेत्र के डिजिटलाइजेशन से किसानों के साथ ही देश को बहुत लाभ मिलेगा। केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा कि कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय कृषि के लिए प्रौद्योगिकी क्षेत्र में प्राथमिकताओं को व्यापक रूप से पुन: संरेखित कर रहा है। कृषि क्षेत्र में नई और उभरती डिजिटल तकनीकों को लागू करने का प्रावधान पिछले वर्ष से शामिल किया गया है। कृषि पर मौजूदा राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस परियोजना (एनईजीपीए) में संशोधन किया गया है और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, ब्लॉक चेन, रिमोट सेंसिंग और जीआईएस, ड्रोन और रोबोट आदि जैसी नई तकनीकों को तैनात करने में राज्य सरकारों को सहायता करने वाले प्रावधानों को शामिल किया गया है। मंत्रालय ने पहले ही 10 राज्यों में पायलट परियोजनाओं को मंजूरी दे दी है, आने वाले महीनों में इस दायरे को और अधिक विस्तारित करने तथा अधिक परियोजनाओं को शामिल करने के प्रयास जारी हैं। कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री सुश्री शोभा करंदलाजे व कैलाश चौधरी, सचिव संजय अग्रवाल, अपर सचिव विवेक अग्रवाल, राज्यों के अधिकारी, सार्वजनिक व निजी क्षेत्रों के कृषि विशेषज्ञ भी मौजूद थे। सिस्को की ओर से एमडी हरीश कृष्णन, सुश्री अनिता कुमार व दिनेश पाल सिंह, निन्जाकार्ट की ओर से को-फाउंडर व सीईओ थिरूकुमारन नागार्जुन, जियो प्लेटफॉम्र्स की ओर से प्रेसीडेंट व रेग्युलेटरी एंड कार्पोरेट अफेयर्स के हेड शंकर अडवाल व वाइस प्रेसीडेंट सुश्री विशाखा सईगल, एनसीडीईएक्स ई-मार्केट्स की ओर से एमडी-सीईओ मृगांक परांजपे व आईटीसी की ओर से डिवीजनल चीफ एक्जीक्युटिव रजनीकांत राय ने प्रेजेन्टेशन दिया व एमओयू साइन किए। ये एमओयू सालभर के लिए आधार रूप में किसान डाटाबेस का उपयोग कर पायलट हेतु किया गया है। एमओयू से देश के किसानों को इनके प्लेटफार्म और इनकी टेक्नालाजी का लाभ मिलेगा।
एनईएमएल डिजिटल मार्केटप्लेस किसानों की आजीविका बढ़ाने व कृषि क्षेत्र में समावेशी विकास में मदद करेगा। इसकी चार सेवाएं मार्केट लिंकेज, मांग एकत्रीकरण, वित्तीय लिंकेज, डाटा सैनिटाइजेशन ये किसानों की आय बढ़ाने व कृषि क्षेत्र की दक्षता सुधारने के लिए योगदान करने हेतु प्रौद्योगिकियों का लाभ उठाकर किसानों दोगुना आय के समग्र लक्ष्य के साथ नवीन कृषि-केंद्रित समाधान की नींव बतौर काम करेगी। यह परियोजना गुंटूर (आंध्रप), देवनागरे (कर्नाटक),नासिक (महाराष्ट्र) में शुरू होगी। निन्जाकार्ट एग्री मार्केटप्लेस प्लेटफॉर्म को विकसित व होस्ट करेगा, जो फसलोपरांत बाजार लिंकेज में प्रतिभागियों को साथ लाने में सक्षम होगा। अभी वह करीब दो हजार टन उपज किसानों से सीधे जन-सप्लाय कर रहा है। इस लिंकेज में विशेषज्ञ/संस्थाएं शामिल हैं। एएमपी प्लेटफॉर्म इसे डिजिटल रूप से सक्षम-व्यवस्थित करेगा, जिससे समग्र बाजार संबंध दक्ष होंगे। वह उत्पाद विशिष्ट विशेषताओं के आधार पर आपूर्ति के कई तरीके मूलत: संरेखित करने में सक्षम होगा। जिन स्थानों पर प्रूफ ऑफ कॉन्सेप्ट (पीओसी) आयोजित किया जाएगा, वे छिंदवाड़ा व इंदौर (मप्र) तथा आणंद (गुजरात) हैं।
धर्मेन्द्र, 14 सितम्बर, 2021