क्षेत्रीय

दो दिवसीय मकर संक्रांति पर श्रद्धालुओं ने किया पर्वी स्नान, आज भी होंगे आयोजन

14/01/2022

प्राचीन धार्मिक स्थलों, गुफा मंदिरों पर हुए धार्मिक अनुष्ठान
सूर्य की आराधना का पर्व है संक्रांति- कैलाश मंथन
भारतीय संस्कृति में परंपराओं का विशेष महत्व- मंथन
प्राचीन गुफाओं को संरक्षित करने की मांग
गुना (ईएमएस)। अंचल में मकर संक्रांति पर्व श्रद्धा भक्ति उत्साह के साथ मनाया गया। विराट हिन्दू उत्सव समिति के तहत कोविड-19 नियमों का पालन करते हुए प्राचीन धार्मिक स्थलों एवं मंदिरों पर अनुष्ठान, संकीर्तन एवं सत्संग सभाओं का आयोजन हुआ। शहर के निकट मालपुर गुफाओं पर स्थित कुंड में श्रद्धालुओं ने पर्वी स्नान का आनंद लिया एवं गुफा में विराजमान सिद्धेश्वर महादेव के दर्शन लाभ कर मेले का लुत्फ उठाया। विराट हिउस अध्यक्ष कैलाश मंथन ने यहां आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि पर्व और उत्सव भारतीय संस्कृति के प्रमुख अंग हैं। इस आदिकालीन विरासत से सामाजिक, धार्मिक एवं राष्ट्रीय एकता मजबूत होती है। अनेकता में एकता का बोध होता है। धर्म एवं संस्कृति के प्रति श्रद्धा, भक्ति का भाव जाग्रत होता है। सूर्य जिस राशि पर स्थित हो उसे छोड़कर जब दूसरी राशि में प्रवेश करे उस समय का नाम संक्रांति है। अंचल के अनेकों धार्मिक स्थलों पर हिउस के तहत कार्यक्रम आयोजित हुए।
केदारनाथ धाम में जुटे सैकड़ों श्रद्धालु
शहर से 40 किमी दूर केदारनाथ धाम के प्राकृतिक कुंड एवं झरनों में मकर संक्रांति पर्व का स्नान करने अंचल से बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे एवं भोलेनाथ का अभिषेक किया। इस मौके पर दूरदराज क्षेत्रों एवं अनेकों जिलों से श्रद्धालु भोलेनाथ के दर्शनार्थ मय परिवार के साथ पहुंचे। ध्यान रहे इस वर्ष पांचांग के अनुसार 14 एवं 15 जनवरी को मकर संक्रांति महोत्सव मनाया जा रहा है। इस मौके पर हिउस प्रमुख श्री मंथन ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए समग्र समाज को विशेष सावधानी रखते हुए कोरोना गाईडलाईन का पालन किया जाए। भारतीय संस्कृति में परंपराओं का विशेष महत्व है। मकर संक्रांति भारत की धार्मिक आस्था का पर्व है। उल्लेखनीय है कि मकर संक्रांति के तहत 17 जनवरी तक विशेष धार्मिक अनुष्ठान एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।
प्राचीन गुफाओं को संरक्षित करने की मांग
गुना जिले की पहाडिय़ों, ग्रामीण क्षेत्रों में सैकड़ों प्राचीन गुफाओं की विस्तृत श्रृंखला फैली है। पुराविद एवं समाजसेवी कैलाश मंथन ने पुरातत्व विभाग, भारत सरकार एवं प्रदेश सरकार का ध्यानाकर्षण करते हुए गुना जिले में फैली प्राचीन पुरा संपदा को संरक्षित करने की मांग की है। कैलाश मंथन के मुताबिक मालपुर की पहाडिय़ों पर करीब आधा सैकड़ा गुफाओं सहित नठाई गांव, ग्राम गढ़ा के जंगलों, गादेर घाटी, केदारनाथ के जंगली क्षेत्र, आरोन रोड पर पचमढ़ी, बेंहटाझिर, चांदौल, टकटइया, बमोरी क्षेत्र के ऊषाखो, कुसुम खो आदि क्षेत्रों में करीब 150 से अधिक प्राचीन गुफाओं की श्रृंखला गुना जिले की बहुमूल्य विरासत है। जिसे संरक्षित करना जरूरी है। अनेकों गुफाओं एवं पहाडिय़ों पर उकेरी गई मूर्तियां अतिक्रमण की चपेट में हैं। सन 1985 से उनका यह खोज अभियान अभी जारी है। पहाडिय़ों में अभी सैकड़ों गुफायें एवं प्राचीन संस्कृति के अवशेष दबे होने के आसार हैं।
प्रवीण/14/01/2021