ट्रेंडिंग

सोनिया के भाषण के साथ शुरु हुआ कांग्रेस का चिंतन शिविर

13/05/2022

-, 3 दिवसीय बैठक में में तय होगी भविष्य की रणनीति
नई दिल्ली (ईएमएस)। राजस्थान के उदयपुर में शुक्रवार से कांग्रेस के ‘चिंतन शिविर’ का आगाज हो गया है, पार्टी का सियासी महामंथन 15 मई तक चलेगा। राजनीतिक संकट के दौर से गुजर रही कांग्रेस के शीर्ष नेताओं समेत 400 से अधिक पदाधिकारी पार्टी में नई जान फूंकने के लिए जरूरी उपायों पर तीन दिन मंथन करेंगे। इस चिंतन शिविर का मकसद कांग्रेस का ‘पुनरुद्धार’ करना है, जो 2014 के बाद से लगातार पराजयों का सामना कर रही है।
कांग्रेस के कई बड़े चेहरे इस तीन दिवसीय चिंतन शिविर में शामिल हिस्सा ले रहे हैं। इनमें पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, पी चिदंबरम, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, सचिन पायलट, गोविंद सिंह डोटासरा, रघुवीर मीणा, हरीश चौधरी, रघु शर्मा, भंवर जितेंद्र सिंह, केसी वेणुगोपाल और अन्य कई दिग्गजों के नाम शामिल हैं। छत्तीसगढ़ से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, मोहन मरकाम, फूलो नेताम, छाया वर्मा चिंतन शिविर में हिस्सा ले रहे हैं।
मध्य प्रदेश से कमलनाथ, गोविंद सिंह, दिग्विजय सिंह, नकुलनाथ ने चिंतन शिविर में हिस्सा ले रहे हैं। सुबोध कांत सहाय, राजेश ठाकुर, आलमगीर आलम, धीरज साहू झारखंड प्रतिनिध के रूप में चिंतन शिविर में हिस्सा ले रहे हैं। बिहार से मदनमोहन झा, अजीत शर्मा, जावेद अहमद, और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार शिविर में शामिल हैं। जबकि महाराष्ट्र से अशोक चवन, बालासाहेब थोरात, नाना पटोले, रजनी पाटिल और प्रणीति शिंदे और कर्नाटक से डीके शिवकुमार, सिद्धारमैया, मल्लिकार्जुन खड़गे, डीके सुरेश, बीके हरिप्रसाद चिंतन शिविर का हिस्सा बने हैं।
इसी तरह से, उत्तराखंड से पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, करण महारा, यशपाल आर्य, अजय टमटा कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे हैं, जबकि पंजाब से कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजा अमरिंदर सिंह वारिंग, प्रताप सिंह बाजवा, रवनीत बिट्टू, मनीष तिवारी शामिल हुए हैं। शुक्रवार सुबह 7:50 बजे राहुल गांधी, भूपेश बघेल, जितेंद्र सिंह सहित करीब 76 नेता ट्रेन से उदयपुर पहुंचे। सुबह 10:30 बजे कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस होगी। इसके बाद सोनिया गांधी के संबोधन के साथ चिंतन शिविर की शुरुआत होगी।
6 अलग-अलग समूहों में नेतागण विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेंगे और फिर इससे निकले निष्कर्ष को ‘नव संकल्प’ के रूप में कांग्रेस कार्य समिति 15 मई को मंजूरी देगी। राहुल गांधी 15 मई को चिंतन शिविर को संबोधित करेंगे। इस तीन दिवसीय विचार मंथन सत्र के बाद जो ‘नवसंकल्प’ दस्तावेज जारी होगा, वह कांग्रेस पार्टी के पुनरुद्धार के लिए आगे के कदमों की घोषणा (एक्शनेबल डिक्लियरेशन) होगी। इसमें यह संदेश भी दिया जाएगा कि राष्ट्रीय स्तर पर गठबंधन के लिए ‘मजबूत कांग्रेस’ का होना जरूरी है।
चिंतन शिविर में राजनीति, सामाजिक न्याय एवं सशक्तीकरण, अर्थव्यवस्था, संगठन, किसान एवं कृषि तथा युवाओं से जुड़े विषयों पर 6 अलग-अलग समूहों में 430 नेता चर्चा करेंगे, यानी हर समूह में करीब 70 नेता शामिल होंगे। कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा आज जब देश प्रजातांत्रिक, आर्थिक और सामाजिक ‘संक्रमणकाल’ के दौर से गुजर रहा है, तब कांग्रेस एक बार फिर देश को प्रगति, समृद्धि और उन्नति के पथ पर लाने के लिए एक ‘नव संकल्प’ की दृढ़ प्रतिज्ञा ले रही है।
अनिरुद्ध, ईएमएस, 13 मई 2022