राज्य समाचार

9 हजार से अधिक अधिकारी -कर्मचारी एक दिन की हड़ताल पर

16/07/2020

- एमपी की 259 मंडियों में 1 हजार करोड़ का व्यापार प्रभावित
भोपाल (ईएमएस)। मॉडल एक्ट, अध्यायदेश को लेकर मध्यप्रदेश में संचालित 259 मंडियों के 9 हजार से अधिक के अधिकारी-कर्मचारी सामूहिक रूप से अवकाश लेकर आज एक दिवसीय हड़ताल पर है। मंडी बोर्ड के अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा की गई एक दिवसीय हड़ताल से आज एमपी की 259 मंडियों में 1 हजार करोड़ रुपए का व्यापार प्रभावित हुआ। संयुक्त संषर्घ मोर्चा के संयोजक बी.बी.फौजदार के अनुसार मध्यप्रदेश की सभी मंडियों में सालभर मेंं करीब 55 हजार करोड़ का व्यापार होता है। जिससे मध्यप्रदेश शासन को बतौर मंडी शुल्क में 1400 करोड़ रुपए राजस्व प्राप्त होता है। इसके अलावा 100 से 140 करोड़ रुपए का निराश्रित शुल्क कलेक्ट्रेट में जमा होता है जिससे सरकार निराश्रित लोगों को इस जमा राशि से पेंशन का भुगतान करती हैं।
श्री फौजदार ने बताया कि एक दिवसीय सांकेतिक इस हड़ताल के जरिए मंडी बोर्ड, मंडी समितियों के 9 हजार से अधिक अधिकारी-कर्मचारियों की मांग है कि सभी कर्मचारी-अधिकारियों को प्रस्तावित संचालनालय विपणन में शामिल कर राज्य शासन के कर्मचारी घोषित किया जाए या फिर मंडियों समितियों द्वारा अर्जित आय जो मंडी बोर्ड में करोड़ों रूपए के रूप में जमा है उसमें अधिकारी-कर्मचारियों को पेंशन के रूप क्षतिपूर्ति भत्ता मिले,इसके लिए अतिशय राशि में से 350 करोड़ रुपए आरक्षित निधि मद का निर्धारण जाए।
इधर भोपाल कृषि मंडी समिति के सचिव राजेन्द्र बघेल ने कहा कि मंडी के 70 से अधिक कर्मचारी आज सामूहिक अवकाश पर है। जिससे आज मंडी में होने वाले डेढ़ से 2 करोड़ रुपए का व्यापार प्रभावित हुआ। मंडी के कर्मचारी अंगीरा पांडे, रघुवीर प्रसाद शर्मा, असलम खान, मनोज सब्बरबाल, अनिल श्रीवास्तव (उपयंत्री),खेमचन्द वाधवानी(सहायक उप निरीक्षक) तथा साहेबराव(सहायक ग्रेड 3) ने बताया कि हम सब मॉडल एक्ट, अध्यायदेश का विरोध करते हैं,विरोध समर्थन में मंडी के व्यापारी,हम्माल,तुलावटी सभी शामिल हैं। मोर्चा के बी.बी.फौजदार ने कहाकि आज की एक दिवसीय हड़ताल के बावजूद हमारी एक सूत्रीय मांग को अनदेखा किया गया तो सभी कर्मचारी-अधिकारी 21 जुलाई को फिर सामूहिक अवकाश लेकर विधानसभा का घेराव करेंगे।
डेविड/ईएमएस 16 जुलाई 2020