अंतरराष्ट्रीय

मेलबर्न की गुलजार सड़कों पर कोरोना वायरस पाबंदियों की वीरानी

06/08/2020

-अपने घरों तक सिमट जाएंगे 2,50,000 से अधिक कामकाजी लोग
मेलबर्न (ईएमएस) ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में कोराना से संबंधित अब तक की सबसे सख्त पाबंदियों के लागू होने की पूर्व संध्या पर बुधवार को उन सड़कों पर वीरानी छाई रही जो कभी लोगों से गुलजार रहा करती थीं। ऑस्ट्रेलिया के हिप्स्टर कैपिटल कहे जाने वाले इस शहर में बुटिक और रेस्तरां गैर-आवश्यक उद्योगों पर प्रतिबंध के मद्देनजर बंद रहे। इस प्रतिबंध से गुरुवार से 2,50,000 से अधिक कामकाजी लोग अपने घरों तक सिमट जाएंगे। महामारी संबंधी नियमों को सख्ती से लागू कराने के लिए रक्षा कर्मियों और पुलिस अधिकारियों ने गलियों में गश्त की। इन पाबंदियों में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाना अनिवार्य है। ऑस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे बड़े शहर को बंद करने से अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान पहुंच सकता है।
हेयरड्रेसर निकी फोइका ने कहा कि हाल के दिनों में उनके पास ग्राहकों की बुकिंग थी, लेकिन अब सैलून कम से कम छह हफ्तों के लिए बंद रहेंगे। उन्होंने मेलबर्न में कोविड-19 के बढ़ रहे मामलों का जिक्र करते हुए कहा, अगर सभी ने सही व्यवहार किया होता तो शायद यह नहीं हुआ होता। साथ ही उन्होंने यह भी माना कि वह थोड़ी तनाव में हैं। विक्टोरिया में बुधवार को एक दिन में कोरोना वायरस के सबसे अधिक 725 मामले सामने आए, जबकि ऑस्ट्रेलिया में अन्य शहरों में संक्रमण के महज 14 नए मामले ही सामने आए। विक्टोरिया सरकार की वेबसाइट बुधवार को उस समय क्रैश हो गई जब आवश्यक सेवाओं में लगे कर्मचारियों ने परमिट के लिए आवेदन देना शुरू किया। इस परमिट से उन्हें गुरुवार से काम के लिए घर से निकलने की अनुमति मिल जाएगी। पचास लाख की आबादी वाले मेलबर्न शहर में कई उद्योगों के, दूसरे और सबसे सख्त लॉकडाउन में अपना काम-धंधा बचाए रखने की उम्मीद नहीं है। आस्ट्रेलिया के उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी माइकल किड ने विक्टोरिया के बाहर रहने वाले आस्ट्रेलियाई निवासियों से मेलबर्न में अपने परिवार और दोस्तों की सहायता करने का अनुरोध किया। इस लॉकडाउन को लेकर मेलबर्न के निवासी दो खेमों में बंटे हुए हैं। कुछ लोग नयी पाबंदियों से नाखुश हैं जबकि कुछ लोग खुले दिल से इसका स्वागत कर रहे हैं।
पवन/ईएमएस 06 अगस्त 2020