खेल

धोनी में क्रिकेट की दुनिया में बनाए वे रिकॉर्ड, जिन्हें तोड़ पाना आज बहुत ही मुशिकल

07/07/2019

नई दिल्ली (ईएमएस)। महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट जगत के महानतम खिलाड़ियों में शुमार हैं। क्योंकि इसतरह के कई मौकें आए जब वह अपनी टीम को मुश्किल से निकालकर जीतकर ले गए। एक कप्तान के रूप में भारतीय टीम में धोनी की भूमिका अहम रही और उनके प्रेसेंस आफ माइंड तथा कभी हार न मानने वाले व्यवहार ने उन्हें एक ग्रेट कप्तान बनाया। धोनी के द्वारा बनाए गए कुछ रिकॉर्ड हैं जिन्हें तोड़ पाना अब असंभव लगाता है। पहला रिकार्ड धोनी का एक मात्र भारतीय कप्तान का हैं, जिनकी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया अपने ही घर में व्हाइटवॉश हुआ हो। यह कारनामा पिछले 140 वर्षों में ऐसा सिर्फ धोनी की कप्तानी में ही संभव हुआ है। हालांकि ये करना धोनी के लिए आसान नहीं था और इसके लिए उन्हें विराट कोहली की मदद लेनी पड़ी थी और 2016 में खेली गई टी-20आई सीरीज में ये बड़ा कमाल किया था। दूसरा रिकार्ड धोनी पहले इसतरह के खिलाड़ी हैं जिन्होंने बतौर कप्तान टी-20 में 5000 रन पूरे किए थे। रायल चैलेंजर्स बैंगलुरु के खिलाफ आईपीएल-11 में उन्होंने ये कमाल किया था। तीसरा रिकार्ड सबसे महंगे बल्ले की बात आती है तो इसमें भी धोनी के बल्ले का नाम आता है। वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल मैच में जिस बल्ले से धोनी ने विनिंग सिक्सर लगाया था वह लंदन में एक इवेंट के दौरान £100,000 में बिका था। इस राशि को बाद में साक्षी धोनी फाउंडेशन ने इस्तेमाल किया था।
एक कप्तान के तौर पर धोनी सबसे ज्यादा छक्के मारने वाले खिलाड़ी हैं। उन्होंने अपनी कप्तानी के समय में 204 छक्के लगाए हैं जो किसी भी अन्य प्लेयर से ज्यादा है। धोनी पहले क्रिकेटर हैं जिन्होंने बतौर कप्तान 150 टी-20 मैच जीते हैं और ये रिकॉर्ड उन्होंने साल 2011 में सनराइजर्स हैदराबाद को वानखेड़े स्टेडियम, मुंबई में हराकर बनाया था। धोनी एक मात्र ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने 9 बार वनडे इंटरनेशनल मैचों में छक्का लगाकर मैच को खत्म किया है। कप्तान ने रूप में धोनी के नाम आईसीसी टूर्नामेंट की तीनों ट्राफियां हैं। उन्होंने 24 सिंतबर 2007 को टी-20 वर्ल्ड कप, 2 अप्रैल 2011 को क्रिकेट वर्ल्डकप और 23 जून 2013 को चैपिंयन ट्राफी जीतने वाले कप्तान बने।
आशीष/ईएमएस 07 जुलाई 2019