क्षेत्रीय

जटिलता के नाम पर गर्भवती को किया रैफर, एम्बुलेंस स्टॉफ ने कराया सामान्य प्रसव

14/05/2022

शाजापुर (ईएमएस)। जिला अस्पताल में पदस्थ महिला चिकित्सक लगातार गर्भवती महिलाओं को जटिलता का हवाला देकर रैफर कर रही हैं। जबकि रैफर महिलाओं का या तो इंदौर अस्पताल पहुंचने या फिर रास्ते में ही सामान्य प्रसव हो रहा है। महिला चिकित्सकों की इस हरकत के कारण गर्भवती और उनके परिजनों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। यही कारण रहा कि एक बार फिर शाजापुर अस्पताल से रैफर की गई महिला का एम्बुलेंस में सामान्य प्रसव कराया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार सुबह 11 बजे ग्राम बोलदा निवासी राधाबाई पति शिवचरण 20 वर्र्ष को ब्लड प्रेशर बढ़ा होने और जटिल प्रसव का हवाला देकर जिला अस्पताल से इंदौर रैफर कर दिया गया। रैफर राधाबाई को शाजापुर से करीब 3 किमी दूर ग्राम सनकोटा के समीप अत्यधिक प्रसव पीड़ा होने लगी। ऐसे में एम्बुलेंस 108 के ईएमटी निखिल चन्द्रवंशी और पायलेट संजय मालवीय ने एम्बुलेंस में ही प्रसव कराने का निर्णय लिया। एम्बुलेंस स्टॉफ ने महिला का सामान्य प्रसव भी कराया और जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ होने पर पुन: जिला अस्पताल शाजापुर में भर्ती कराया गया।
-मनमानी से नही आ रहे बाज
उल्लेखनीय है जिला अस्पताल से प्रतिदिन गर्भवती महिलाओं को जटिलता के नाम पर रैफर किया जा रहा है। साधन-संसाधन होने और कई बार हंगामा होने के बाद भी जिम्मेदार अपनी मनमानी से बाज नही आ रहे हैं और यही वजह है कि जिला अस्पताल से गर्भवती महिलाओं को इंदौर रैफर किए जाने का कार्य बंद नही किया गया है। शनिवार को भी अस्पताल के जिम्मेदारों की मनमानी के कारण गर्भवती महिला की जान पर बन आई। हालांकि एम्बुलेंस 108 स्टॉफ की सुझबूझ से महिला का सुरक्षित प्रसव हुआ और महिला और उसके बच्चे की जान बच गई। अब जिम्मेदारों की कार्यशैली पर सवालिया निशान इसलिए भी लगता है कि अब तक शाजापुर अस्पताल से जितनी भी गर्भवतियों को जटिलता का हवाला देकर रैफर किया गया है उनमें से अधिकांश गर्भवती महिलाओं का इंदौर अस्पताल में सामान्य प्रसव हुआ है।
राजेश कलजोरिया/14/05/2022