राज्य समाचार

लॉकडाउन ने त्योहारी रौनक पर लगाया ग्रहण

01/08/2020

साप्ताहिक लॉकडाउन से रक्षाबंधन के पूर्व बाजार बंद
अशोकनगर (ईएमएस)। कोरोना महामारी का कहर लगातार जारी है। ऐसे में लोगों की सामाजिक व आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह ठप हो गई हैं। महामारी का असर हमारे पर्व त्योहारों व पौराणिक परम्पराओं पर भी पड़ा है। मार्च के बाद पडऩे वाले अमूमन सभी त्योहार या तो नहीं मनाए गए या फिर लोग घर की चहारदीवारी के अंदर ही मनाने को मजबूर दिखे। कोरोना महामारी ने एक तरह से त्योहारों की भव्यता व रौनकता पर ग्रहण लगा दिया है। पवित्र त्योहार रक्षाबंधन को अब एक दिन शेष है। सामान्य दिनों में रक्षाबंधन आने के 10 दिन पहले से ही हाट बाजार में राखी की दुकानें सज जाती थी। लेकिन इस बार कोरोना प्रकोप के कारण लागू लॉकडाउन के कारण बाजारों में सन्नाटा पसरा है।
सोमवार को रक्षाबंधन है। इससे पूर्व बाजारों में जमकर खरीदारी होती है, जिससे व्यापारियों का कारोबार बढ़ता और मुनाफा भी मिलता है। लेकिन, इस बार रक्षाबंधन के पूर्व की खरीदारी पर साप्ताहिक लॉकडाउन का साया है। रक्षाबंधन से दो दिन पूर्व से रक्षाबंधन के दिन तक बाजारों में राखी की दुकानें, मिठाई की दुकानों का कारोबार सामान्य दिनों की तुलना में कई गुना अधिक रहता है। रक्षाबंधन पर राखी, मिठाई की जबरदस्त बिक्री इस बार काफी कम रहेगी। इसकी तीन प्रमुख वजह हैं। एक तो कई माह के लॉकडाउन और अनलॉक में लॉकडाउन की कई शर्तों के कारण बाजार और कारोबार काफी प्रभावित हुआ है, दूसरा रक्षाबंधन सोमवार को है और इससे ठीक पहले शनिवार-रविवार को साप्ताहिक लॉकडाउन होने के कारण न तो दुकानें खुलेंगी और न ही लोग बेवजह बाहर निकल सकेंगे। तीसरा लोगों में कोरोना संक्रमण के डर के कारण बाहर निकलने से लेकर भीड़ में जाकर खरीदारी करने और दुकानों पर बने सामान के प्रयोग को लेकर डर है। ऐसे में इन तीनों कारणों के चलते रक्षाबंधन का बाजार पचास फीसदी तक कम रहने की आशंका जताई जा रही है, जो कि व्यापारियों के लिए अच्छा संकेत नहीं है।
मिठाई कारोबार को जोर का झटका:
कोरोना ने त्योहार पर मिठाई के कारोबार को भी जोर का झटका दिया है। रक्षाबंधन के त्योहार पर मिठाई का शहर और विभिन्न हिस्सों में बड़ा कारोबार होता था। वह कारोबार अब पचास फीसदी तक सिमटने के आसार हैं। क्योंकि अभी भी कोरोना की घबराहट में लोग मिठाई आदि खाने से परहेज कर रहे हैं। घरेलू पार्टियों में भी घर पर ही बनी मिठाइयों का उपयोग किया जा रहा है। अब जबकि रक्षाबंधन में एक दिन शेष है। ऐसे में शनिवार और रविवार के टोटल लॉकडाउन ने मिठाई कारोबारियों को निराश करने का काम किया है। रक्षाबंधन का त्योहार सोमवार को है। इससे पहले शनिवार और रविवार को बंदी का दिन है। ऐसे में मिठाई दुकानदारों की धडक़न और बढ़ गई है। पहले से ही लोग त्योहार के चलते मिठाई की खरीददारी करते थे। जो कि ऐसे समय में मुश्किल दिखाई पड़ रही है। अभी तक की जो स्थिति है उसमें भी मिठाई दुकानों पर पहले जैसा कारोबार नहीं रहा है। जो खरीददार पहले दुकानों पर जुटते थे उनकी संख्या में काफी कमीं आई है। यह सब कोरोना का कारण है। यहां तक कि घरों में बर्थडे व अन्य छोटी मोटी पार्टियों में भी लोग घर पर ही विभिन्न प्रकार के व्यंजन बनाने में रुचि ले रहे हैं। मिठाई की दुकानों से फिलहाल दूरी बना रखी है।
प्रवीण/01/08/2020