खेल

दीक्षा का लक्ष्य टोक्यो ओलिंपिक में पदक जीतना

19/03/2019

नई दिल्ली (ईएमएस)। अदिति अशोक के बाद लेडीज यूरोपीय टूर का खिताब जीतने वाली केवल दूसरी भारतीय महिला दीक्षा डागर का टारगेट अब 2020 टोक्यो ओलिंपिक में पदक जीतना है।
हाल ही में पेशेवर गोल्फर बनीं 18 साल की दीक्षा ने बताया, 'मैं अभी 12वीं में हूं और मेरी परीक्षा चल रही हैं। अगर मैं परीक्षा देती तो मुझे कई अहम टूर्नामेंटों से नाम वापस लेना पड़ता। इससे मेरी रैंकिंग्स पर भी असर पड़ता। ओलिंपिक खेलों में क्वॉलिफाइ करने के लिए रैंकिंग्स अहमियत रखती है। इसलिए मैंने इस साल परीक्षा छोड़ दी हालांकि मैंने स्कूल से वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए कहा है।' दीक्षा के पिता नरिंदर डागर, जो कि खुद गोल्फर ने कहा कि भले ही दीक्षा की कुछ समस्याएं हैं लेकिन उसकी कई सारी खूबियां भी हैं। उनकी लंबाई पांच फुट आठ इंच है। उन्होंने कहा, 'गोल्फ जैसे खेल में लंबाई काफी मायने रखती है। इससे उसे गेंद दूर मारने में मदद मिलती है।
गिरजा/19 मार्च ईएमएस