राज्य समाचार

मतगणना के दिन गंभीर और सावधान रहें, आशंका होने पर सशक्त विरोध करें : कमलनाथ

06/12/2018

कांग्रेस प्रत्याशियों का मतगणना के पूर्व प्रशिक्षण
भोपाल (ईएमएस)। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि इस इलेक्शन में जनता कांग्रेस के साथ खड़ी थी, मुख्य बात यह है कि यह चुनाव जनता और भारतीय जनता पार्टी के बीच में था। मतगणना के दिन तक कांग्रेस पार्टी के सभी प्रत्याशियों को बेहद सजग और सतर्क रहने की जरूरत है। नाथ आज यहां मानस भवन में प्रदेश भर से आये 229 विधानसभाओं के कांग्रेस प्रत्याशियों को मतगणना प्रशिक्षण के पूर्व संबोधित कर रहे थे।
कमलनाथ ने कहा कि मतगणना के दिन बड़ी गंभीरता से आपको सावधान रहना है और आशंका होने पर सशक्त विरोध दर्ज करना है। समाधान होने पर ही मतगणना को जारी रखने देना है। मुझे आशा है कि प्रशासन पूरी निष्पक्षता के साथ प्रत्याशियों की आपत्तियों का समाधान करेगा, क्योंकि उन्हें पता है कि 11 के बाद 12 नवंबर भी आने वाला है। उन्होंने कहा कि जब पहली दफे ईवीएम का चुनाव में प्रयोग हुआ था तब नियम कुछ ढीले-ढाले थे, लेकिन समय के साथ उनमें बदलाव आया है। हमने चुनाव आयोग से मांग की है कि हर राउंड के बाद उसकी रिजल्ट शीट दें और उस पर आर.ओ. और प्रत्याशी के हस्ताक्षर भी करायें। ऐसा होने के बाद ही आप दूसरा राउण्ड शुरू होने दें। आप सभी अच्छी तरह मतगणना की पूरी प्रक्रिया की जानकारी लें और अपने अधिकारों को जानें।
उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी बात यह रही कि कांग्रेस ने अबकी बार पूरी एकजुटता दिखाई। एकता की यह ताकत आगामी 11 नवम्बर को मध्यप्रदेश में एक नया इतिहास लिखेगी। पिछले 15 सालों से भाजपा और उनके चंद समर्थक अधिकारी प्रदेश पर कब्जा जमाये हुए थे। अब प्रदेश में सभी वर्गों को साथ लेकर एक नई व्यवस्था का निर्माण होगा। पूरी की पूरी व्यवस्था बदलने की जरूरत है।
प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश कांग्रेस के सर्वोच्च नेतृत्व कमलनाथ ने एक बेहतरीन टीम वर्क के साथ विधानसभा चुनाव में मेहनत की है। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार जरूर बनेगी और अगले लोकसभा चुनाव में इसका अच्छा खासा असर देखने को मिलेगा।
नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने सभी उम्मीदवारों को मतगणना दिवस के अलावा हेराफेरी की आशंका को देखते हुए 9 और 10 नवंबर को विशेष रूप से सतर्क रहने की हिदायत दी।
उन्होंने कहा कि सावधानी रखें कि 9 और 10 नवंबर को किसी भी बाहरी व्यक्ति को स्ट्रांग रूम के अंदर और आसपास न जाने दें। उनके साथ अवश्य रहंे। मतगणना स्थल पर जितने भी अधिकारियों और कर्मचारियों की ड्यूटी लगी है उनकी सूची 11 तारीख के पहले अवश्य प्राप्त करें। जो भी अंदर जाते हैं, उनका फोटोयुक्त परिचय पत्र और सूची का मिलान जरूर कर लें।
इस अवसर पर अभा कांग्रेस विधि विभाग के चेयरमेन विवेक तन्खा ने नियमों और कानूनों की बारीकियों को समझाया। उन्होंने कहा कि अधिवक्ताओं की एक बड़ी टीम पूरे इलेक्शन की माॅनिटरिंग कर रही है। पूरी चुनाव प्रक्रिया संविधान और पीपुल्स रिप्रजेंटेटिव एक्ट में निहित है। पहले चरण में मतदाता सूचियों का काम हुआ। दूसरे चरण में मतदान हुआ और दोनों में हम सफल रहे। अब तीसरे चरण में मतगणना के पूर्व हमें सभी प्रक्रियाओं को ठीक से समझ लेना है। समय के पूर्व मतगणना स्थल पर पहुंच जायें। उन्होंने मशीन की कार्यप्रणाली, उसके खुलने और बंद होने का समय, पोस्टल बैलेट, वीवीपेट का महत्व, हैकिंग की शंका होने पर उसका समाधान, सेंपल चैकिंग के लिये लाटरी सिस्टम, पर्चिंयों का मिलान, केलकुलेशन शीट, मतगणना के समय योग्य, सचेत और कुशाग्र लोगों को काउंटिंग प्रतिनिधि या एजेंट चुनना और उनमें वकीलों को प्राथमिकता देना आदि सभी बातों को बड़ी विशेषज्ञता के साथ समझाया। उन्होंने कहा कि जब तक परिणाम घोषित न हो जायें तब तक वहीं रहना है। प्रत्याशियों को हैल्प लाईन नंबर भी दिये गये हैं, जहां पर गड़बड़ी की शिकायत कर सकते हैं। इन शिकायतों को तत्काल चुनाव आयोग को भेजा जायेगा।
इस अवसर पर प्रवक्ता जे.पी. धनोपिया, शशांक शेखर और अजय गुप्ता आदि ने मतगणना की बारीकियों को समझाया। इस अवसर पर सुरेश पचैरी, संजय कपूर, सुधांशु त्रिपाठी, राजेन्द्र सिंह, शोभा ओझा, नरेन्द्र सलूजा, प्रकाश जैन, राजीव सिंह, चंद्रप्रभाष शेखर, गोविंद गोयल, वरूण चैपड़ा, भूपेन्द्र गुप्ता, अभय दुबे, आदि उपस्थित थे।
हरि पसाद पाल / 06 दिसम्बर, 2018