क्षेत्रीय

(अशोकनगर) भाईयों के माथे पर सजा तिलक

09/11/2018

अशोकनगर (ईएमएस)। भाई-बहिन के प्यार भरे रिश्ते का प्रतीक भाई दूज पर्व शुक्रवार को पारंपरिक ढंग से उत्साह के साथ मनाया गया। इस मौके पर बहिनों ने अपने भाईयों के माथे पर तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र की कामना की। वहीं भाईयों ने भी अपनी बहिनों को सुंदर-सुंदर उपहार देकर उनकी रक्षा का वचन दिया। कई भाई अपनी विवाहिता बहिनों के यहां पहुंचे। हालांकि सुबह-सुबह यात्री वाहन न चलने से परेशानी भी आई। ऐसे में भाईयों ने निजी वाहनों से बहिन के घर तक का सफर तय किया। भाई दूज पर्व को लेकर बाजार में सुबह से ही चहल-पहल होने लगी थी। खासकर युवतियां तथा महिलाएं सज-धजकर पूजा के थाल सजाने में जुट गई थीं। दोज के मौके पर जहां घरों में बहिनों ने दूज की पूजन कर अपने भाईयों को तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र की कामना की। देव स्थानों पर भी लोगों की खासी भीड़-भाड देखी गई। लोग दूरदराज क्षेत्रों में स्थित अपने कुल देवताओं को पूजने के लिए भी पहुंचे। वहीं जेल में पहुंचकर बहिनों से अपने भाईयों के सिर पर तिलक लगाकर उनसे आर्शीवाद लिया, जेल पर सुबह से ही भीड़ लगने लगी थी।
व्यवसायियों ने पूजे कांटे-बांट
दीपावली की दूज पर व्यवसायियों द्वारा अपने कांटे, बांट, औजार तथा वाहनों की पूजा करने की परंपरा मानी जाती है। कारोबारियों ने अपने-अपने प्रतिष्ठïानों की साफ-सफाई कर दूज पूजी तथा व्यवसाय संबंधी सारे उपकरणों तथा औजारों की पूजा की। इस दौरान उन्होंने नए सिरे से अपने बहीखाता में लेखा-जोखा किया। किसानों ने भी टै्रक्टरों तथा कृषि उपकरणों की साफ-सफाई कर उनकी विधिवत पूजा-अर्चना की।
यातायात हुआ प्रभावित
भाई दूज के दिन जिले के प्रमुख मार्गों पर चलने वाली अधिकांश बसें दोपहर तक बंद रही। बस मालिकों ने दोज पूजा करने के बाद ही अपनी बसों को रुट पर भेजा। बसें बंद रहने से यात्रियों को अपने गंतव्य तक पहुंचने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। सबसे अधिक परेशानी उन यात्रियों को उठानी पड़ी जो निर्धारित समय पर अपने गंतव्य तक नहीं पहुंच सके। सुबह से लेकर शाम तक यातायात बुरी तरह प्रभावित होता रहा।
ट्रेनों में रही भीड़
भाई दूज के मौके पर अधिकांश निजी बसें दोपहर तक बंद रहने के कारण लोगो को टे्रनों का सहारा लेना पड़ा। जहां भाई अपनी बहिनों के पास जा रहे तो वहीं कई बहिनेेंं अपने भाईयों के पास जाने के लिये ट्रेन में सफर कर रही थीं। जिसके चलते टे्रनों में खासी भीड़ भाड़ देखने को मिली। वहीं कई लोगों को अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए निजी वाहनों का सहारा लेना पड़ा।
चाय के लिए तरसे लोग
भाईदूज के दिन ग्रामीण क्षेत्रों से दूधियों ने दूध की सप्लाई बंद रखी। इस कारण न केवल शहरी क्षेत्रों में बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में चाय की दुकानों पर दूध नहीं पहुंचा। इस कारण होटलों पर लोग चाय के लिए तरस गए। इसके अलावा घरों में भी दूज पर खीर बनाने के लिए लोगों को दूध नहीं मिला। ऐसे में लोगों ने विभिन्न कंपनियों के दूध के पैकिट लेकर काम चलाया।
ईएमएस/मोहने/09 नवंबर 2018