लेख

(व्यंग्य) डर (लेखक- विवेक रंजन श्रीवास्तव / ईएमएस)

14/01/2020


बचपन में मैं दरवाजे के पीछे छिप जाया करता था, जैसे ही कोई दरवाजे से निकलता मैं चिल्लाते हुये बाहर आता और इस अचानक, अप्रत्याशित हो हल्ले से, आने वाला अनायास डर जाता था। इस खेल में मुझे डराने में बड़ा मजा आता था, गलती से कही मां या पिताजी को डराने की कोशिश कर दी तो फिर जो डांट पड़ती थी उससे डरने का मजा भी अलग ही था। आशय यह है कि डरने और डराने में भी मजे हैं। आज सारे देश में यही डरने और डराने के खेल कुशल राजनीति के साथ खेले जा रहे हैं। एक हमारे जैसे नाकारा लोग हैं जिन्हें स्वयं अपने आप के लिये ही समय नही है, अपना टैक्स रिटर्न भरना हो, बिजली बिल जमा करना हो, किसी संपादक की मांग पर कोई रचना लिख भेजनी हो हम कल पर टालते रहते हैं। यदि अंतिम तिथि न हो तो शायद हमारे जैसो के कोई काम ही न हो पायें। पर भला हो उन महान समाज सेवियो का जो संविधान की रक्षा के लिये फटाफट समय निकाल लेते हैं। पत्थर, आगजनी के सामान सहित धरने आंदोलन कर डालते हैं। कोई नियम बना नहीं कि उससे किस किस को किस तरह डराया जा सकता है, इसका झूठा सच्चा पूरा हिसाब लगाकर ऐसे लोग भरी ठण्ड में भीड़ इकट्ठी कर डराने का खेल खेलने के विशेषज्ञ होते हैं। उन्हें पता होता है कि किसे डर बता कर बरगलाया जा सकता है, वे अपनी टारगेट आडियेंस को प्रभावित करने में बिना किसी कोताही के जुट जाते हैं। कहने को तो देश में सब समझदार हैं, पढ़े लिखे हैं पर जब उन्हें धर्म, भाषा, क्षेत्र के नाम पर डराया जाता है तो सब बिना सोचे समझे डरने लगते हैं। ज्यादा पढ़े लिखे लोग बिना वास्तविकता जाने समझे ट्वीटर पर अपना डर अभिव्यक्त कर डालते हैं। मजे की बात यह भी है कि वही सरकार जो आयोडीन नमक के फायदे गिनाने के लिये वातावरण निर्माण पर करोड़ो के विज्ञापन जारी करती है, बच्चो की रैली निकाल कर जागरूखता लाती है। चुनावो में मतदान करने के लिये प्रेरित करने के जन आंदोलन अभियान पर बेहिसाब खर्च करती है, प्रसिद्ध फिल्मी हस्तियों को इंडोर्स करते हुये हाथ धोने की हर छोटी बड़ी बारीकियां समझाती है, वही सरकार ऐसे कानून बनाते समय चुप्पे चाप यह मान लेती है कि सरकार के इस कदम से कोई नही डरेगा। बिना किसी पूर्व नियोजित तैयारी के सरकार नोट बंद कर डालती है, टैक्स कानून में रातो रात बदलाव कर देती है। सरकार को लगता है कर डालो जो होगा देखा जायेगा। जैसे बिना यह समझे कि दरवाजे पर आने वाला हार्ट पेशेंट भी हो सकता था बचपन मैं उसे डराकर स्वयं को बहुत तीसमारखां समझा करता था, कुछ वैसे ही सरकार भी चल रही है। या तो सरकार ने तुलसी की चौपाई पढ़ ली है " भय बिन होई न प्रीति "। जो भी हो मैं तो यही सोचकर खुश हूं कि "डर के आगे जीत है"।
विवेक/14जनवरी