क्षेत्रीय

लोकसभा चुनाव में सेक्टर अधिकारियों की है अहम भूमिका

12/03/2019

सेक्टर अधिकारी पूरी सजगता से अपने दायित्वों का निर्वहन करें- जिला निर्वाचन अधिकारी
नरसिंहपुर, (ईएमएस)। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी दीपक सक्सेना ने सेक्टर अधिकारियों की बैठक में कहा कि लोकसभा चुनाव स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं सुचारू रूप से सम्पन्न कराने में सेक्टर अधिकारियों की अहम भूमिका रहेगी। उन्होंने कहा कि सेक्टर अधिकारी अपने सेक्टर के अन्तर्गत आने वाले सभी मतदान केन्द्रों का भ्रमण कर लें। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जावे कि जिन सेक्टर अधिकारी के पास रिजर्व ईवीएम रहें, वे रात्रि विश्राम संबंधित सेक्टर के किसी मतदान केन्द्र में ही करें। जिस मतदान केन्द्र पर रात्रि विश्राम करना है, उसकी जानकारी पहले से दे दें। मतदान केन्द्रों पर एएमएफ (एश्योर्ड मिनीमम फेसेलिटी) की व्यवस्था देख लें, जिसमें बिजली, पीने के पानी, पहुंच मार्ग, महिला- पुरूष शौचालय, व्हील चेयर, छाया, फर्नीचर, रैम्प, बैठक आदि की व्यवस्था रहे।
सेक्टर अधिकारियों की बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। पहले विधानसभा क्षेत्र गोटेगांव एवं नरसिंहपुर के सेक्टर अधिकारियों की और इसके बाद विधानसभा क्षेत्र तेंदूखेड़ा एवं गाडरवारा के सेक्टर अधिकारियों की बैठक हुई। विधानसभा क्षेत्र गोटेगांव के लिए 25, नरसिंहपुर के लिए 35, तेंदूखेड़ा के लिए 25 और गाडरवारा के लिए 29 सेक्टर अधिकारी बनाये गये हैं।
बैठक में उप जिला निर्वाचन अधिकारी एवं अपर कलेक्टर मनोज ठाकुर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत आरपी अहिरवार, एसडीएम महेश कुमार बमनहा, डिप्टी कलेक्टर डीएस तोमर, राजेश शाह व संघमित्रा बौद्ध, सेक्टर अधिकारी और अन्य अधिकारी मौजूद थे।
कलेक्टर ने सेक्टर अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे आवंटित मतदान केन्द्रों का शीघ्र भ्रमण करें। मतदान केन्द्रों के भौतिक सत्यापन, रूट चार्ट, मतदाता सूची पुनरीक्षण, वल्नरेबिल एवं संवेदनशील मतदान केन्द्रों के चिन्हांकन से संबंधित कार्रवाई पूर्ण कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करें। निर्वाचन प्रबंधन, लॉ एण्ड आर्डर, आदर्श आचरण संहिता, निर्वाचन प्रक्रिया, ईवीएम और मतदाता जागरूकता से संबंधित कार्रवाई पूर्ण करें। आयोग के निर्देशानुसार मतदान के पहले, मतदान के दिन और मतदान के पश्चात के दायित्वों का निर्वहन सजगता से करें। आवश्यकतानुसार मतदान केन्द्रों में बदलाव से संबंधित प्रस्ताव भिजवायें। एसडीएम और अनुविभागीय पुलिस अधिकारी शतप्रतिशत मतदान केन्द्रों का सत्यापन सुनिश्चित करें।
ईवीएम का प्रदर्शन करायें
बैठक में बताया गया कि प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में प्रदर्शन के लिए 10 ईवीएम/ वीवीपैट प्रदान की जा रही हैं। कलेक्टर ने कार्यक्रम तैयार कर ईवीएम का प्रदर्शन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये।
मतदाता जागरूकता के लिए स्वीप अभियान
कलेक्टर ने कहा कि लोकसभा चुनाव में अधिक से अधिक मतदाता मतदान करें। ईवीएम/ वीवीपैट संचालन के बारे में मतदाताओं को भलीभांति जानकारी हो और उनकी शंकाओं का समाधान किया जावे। इसके लिए निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ईवीएम का प्रदर्शन किया जावे। स्वीप अभियान के तहत मतदाता जागरूकता की गतिविधियां संचालित की जायें।
जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने कहा कि सेक्टर अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि संबंधित सेक्टर में मतदाता जागरूकता के लिए मतदाता चौपाल/ बीएजी/ ईएलसी/ चुनाव पाठ्शाला का गठन हो जाये।
केवल मतदाता पर्ची के आधार पर वोट नहीं दे सकेंगे- दिखाना होगा कोई एक फोटो पहचान पत्र
बैठक में बताया गया कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार लोकसभा चुनाव में केवल मतदाता पर्ची के आधार पर मतदाता वोट नहीं दे सकेंगे। मतदाता पर्ची का वितरण बीएलओ द्वारा किया जाता है। मतदान के पूर्व मतदाता को अपनी पहचान के लिए फोटो मतदाता परिचय पत्र- ईपिक या पहचान के लिए निर्धारित 11 दस्तावेजों में से कोई एक दिखाना होगा। इस संबंध में कलेक्टर ने सेक्टर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये।
प्रवीण/12/03/2019