क्षेत्रीय

लक्ष्य निर्धारित कर मनरेगा के कार्यें को पूर्ण करें : कमिश्नर

24/08/2019

-कलेक्टर्स कॉन्फेंस संपन्न
सागर (ईएमएस)। कमिश्नर आनंद कुमार शर्मा की अध्यक्षता में कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस का आयोजन कमिश्नर कार्यालय सभाकक्ष में शनिवार को हुआ। बैठक में स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री आवास योजना, सीएम हेल्पलाईन, मनरेगा, खाद्य विभाग द्वारा डेटाबेस में आधार नंबर की सीडिंग, सतर्कता समिति का गठन व बैठकों की मॉनीटरिंग की समीक्षा की गई।
कमिश्नर श्री शर्मा ने 100 दिवस से अधिक लंबित शिकायतों की स्थिति में सागर जिले के लगातार प्रथम स्थान आने पर बधाई प्रेषित की। उन्होंने अन्य जिलों से अपेक्षा की है कि शिकायतों का वर्गीकरण कर अपात्र शिकायतों को फोर्स क्लोज करें। स्वच्छ भारत मिशन में सागर जिला शत-प्रतिशत प्रगति कर चुका है। जिला पंचायत सीईओ श्री चंद्रशेखर शुक्ला ने बताया कि उन्होंने जनपदों की बैठक आयोजित कराकर ग्राम पंचायतों को एक्टिवेट कर ”एक घर एक शौचालय” की बात को प्रमुखता से रखा इससे यह स्थिति निर्मित हुई है।
प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना ग्रामीण के तहत वित्तीय वर्ष 2016-17, 2017-18 व 2018-19 में आवासों के लिए स्वीकृत राशि की किश्तें एक माह के भीतर हितग्राही को प्रदान करें। वहीं वित्तीय वर्ष 2019-20 के लक्ष्य के विरूद्ध अद्यतन प्रगति की समीक्षा करते हुए प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय किश्त समय पर प्रदान हो इस पर ध्यान देने के निर्देश बैठक में सभी कलेक्टर्स एवं सभी जिला पंचायत सीईओ को दिए। मनरेगा के तहत दमोह जिले में 102917 कार्य शुरू किए गए जिसमें से 90565 कार्य पूर्ण हो चुके है। पन्ना जिले में 87025 कार्यों के विरूद्ध 73941, टीकमगढ़ जिले में 80180 कार्यों के विरूद्ध 67863, छतरपुर जिले में 110652 कार्यों के विपरीत 89642 कार्य तो सागर में 135496 कार्यों के विपरीत मनरेगा में 109826 कार्य पूर्ण हो चुके हैं।
बैठक में खाद्य विभाग की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजनांर्गत संभाग में बेहतर कार्य किया गया है। वर्षाकाल में सभी जिलों ने आपदा प्रबंधन की तैयारियां बेहतर कर मुस्तैदी से कार्य किया है। राजस्व विभाग की समीक्षा करते हुए उन्होंने निर्देश दिए कि राजस्व प्रकरणों का निराकरण एक निश्चित समय-सीमा के भीतर करें, अविवादित नामांतरण पेंडिंग न हो, सीमांकन की फिर से समीक्षा करें। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि सीमांकन यथासंभव मशीनों द्वारा हो। पांच से अधिक वर्षों से लंबित राजस्व प्रकरणों की पेशी में अधिक वक्त ना लगे इसका भी विशेष ध्यान रखा जाए।
सभी कलेक्टर्स अपने राजस्व न्यायालयों का सतत रूप से निरीक्षण करते रहे। राजस्व न्यायालयों के प्रकरणों में संभाग के टॉप-2 एसडीएम राजस्व न्यायालयों में उपखण्ड अधिकारी राजस्व तेंदूखेड़ा एवं एसडीओ राजस्व रहली ने अच्छा काम किया है जबकि तहसीलदार राजस्व न्यायालय तहसीलदार शाहगढ़ एवं तहसीलदार जैसीनगर को संभाग में बेहतर कार्य करने के लिए बधाई भी दी।
डाटाबेस में आधार सीडिंग हो, सतर्कता समितियों की बैठकें ब्लॉक स्तर पर हो इसके निर्देश एसडीएम को देने कहा। दस्तक अभियान प्रगति की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि बच्चों का चिन्हांकन सही तरीके से हुआ है या नहीं इसका विशेष ध्यान रखा जाए। सीएमएचओ के दौरों पर अगर यह पाया जाता है कि टीम ने अच्छा काम नहीं किया उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही भी करने के निर्देश दिए।