क्षेत्रीय

विविध एवं प्राकृतिक खेती के किसानों को बताए फायदे

16/05/2022

शाजापुर (ईएमएस)। जिले में विविध एवं प्राकृतिक खेती तथा कृषि आदानों के सम्बन्ध में जन जागरण अभियान के अन्तर्गत विगत दिवस ग्राम रंथभवर में विकास खण्ड स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में डॉ दिलीप चौधरी, जगदीश पाटीदार, रतनलाल भिलाल, मणिशंकर चौधरी, एमएल मालवीय, बीएल खान, डॉ नेहा वास्केल ने किसानों को विविध एवं प्राकृतिक खेती के फायदों के बारे में विस्तार से बताया। वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी मालवीय ने किसानों को जैविक कृषि पद्धति की जानकारी देते हुए बताया कि किसान अपने खेतों में जैविक खाद एवं जैविक कीटनाशक का अधिक से अधिक उपयोग करें। किसानों को नीम की निम्बोली अर्क, तम्बाखू अर्क एवं वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने की विधियां बताई गई। आगामी मौसम में सोयाबीन में कीट नियंत्रण के लिए तीव्र कीटनाशक का उपयोग न कर प्रारंभ में हल्की पौध संरक्षण दवाइयों का उपयोग करने की सलाह दी। डॉ नेहा ने क्षेत्र में पशुओं को होने वाली प्रमुख बीमारियों से बचाव के लिए टीकाकरण कराने की सलाह दी। साथ ही नस्ल सुधार हेतु पाड़ा वितरण योजना तथा अन्य विभागीय योजनाओं की जानकारी दी। कार्यक्रम में किसानों को फल क्षेत्र विस्तार, सब्जी क्षेत्र विस्तार, वर्मी बेड वितरण एवं वर्मी कम्पोस्ट के लाभ के साथ विभागीय योजनाओं के बारे में बताया गया। मत्स्य विभाग द्वारा द्वारा किसानों को सिंचाई हेतु निर्मित तालाब में मत्स्य पालन से अतिरिक्त आय अर्जित करने और विभाग द्वारा तालाब निर्माण पर दी जाने वाली अनुदान राशि की जानकारी दी गई। गणेश मकरैया द्वारा कृषकों को खेतों में नरवाई न जलाने की सलाह दी गई और नरवाई जलाने से खेत में होने वाले नुकसान के बारे में बताया गया।
राजेश कलजोरिया/16/05/2022