क्षेत्रीय

(गुना) सत्संग से ही कथा में लगता है मन: - अरविंद जी महाराज

05/12/2018

पंचमुखी हनुमान मंदिर पर रामकथा रामकथा
गुना (ईएमएस)। संशय को अपने मन में न आने दे । संत और सत्संग करने के पक्ष और विपक्ष पर कुर्तक न करें । जो बात अच्छी भी न लगें उस पर भी शांत रहें इससे धर में शांति रहेगी उक्त आशय के विचार देश के प्रसिद्व कथा वाचक श्री अरविंद जी महाराज द्वारा रामकथा का वाचन करते हुये आज बुंधवार से पंचमुखी हनुमान मंदिर परिसर में कही आज कथा का दुसरा दिन था यह कथा दोपहर 2 बजे से प्रारंभ होती हैं।
कथा का शुभारंभ महंत सियारामदास जी महाराज ने व्यासगादी पूजन करके किया आज क्षेत्र के अनेक संत महात्मा भी श्रद्वालुओं के साथ कथा श्रवण के लिये उपस्थित थे । अरविंद जी महाराज ने अपने रामकथा वाचन में कहा प्रेम का गुण प्रतीक्षा हें इसकी परीक्षा नही लेना चाहिये इसका प्रमाण शबरी को माना गया हैं
मन में कभी शंका का भाव नही आना चाहिये शंका से मन में उथल-पुथल होती हैं जब भी मन किसी असमंजन में फस जावे भगवत भजन में लग जाओं इससे एकाग्रता आवेगी समाधान का मार्ग स्वत: मिल जावेगा । इस कथा का आयोजन पंचमुखी हनुमान मंदिर भक्तगणों द्वारा किया गया जा रहा है ं इस रामकथा का वाचन दोपहर 2 बजे से 5 बचे तक किया जावेगा ।