क्षेत्रीय

(भोपाल) सेना पर संदेह बर्दाश्त नहीं किया जा सकता : विंग कमांडर डॉ यू.के. चैधरी

18/03/2019

भोपाल, (भोपाल) विगत् दिनों विपक्षी राजनैतिक दलों मुख्यतः काँग्रेस ने जिस तरह से सेना पर संदेह कर सबूत माँगे हैं, उस मुद्दे पर सेवानिवृत्त विंग कमांडर डॉ.यू.के. चैधरी ने विपक्षी राजनैतिक दलों पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय वायुसेना के एयर सर्जिकल स्ट्राइक पर संदेह करना सेना का अपमान है। हमारी भारतीय वायुसेना ने शौर्य एवं पराक्रम कर दुश्मन को नाको चने चबवाकर शूरवीरता का परिचय दिया है, वह एतिहासिक है, जिसमें सैकेण्ड जनरेशन मिग-21 वाइसन लड़ाकू विमान ने चैथे चनरेशन के एफ-16 को मार गिराया एवं बालाकोट व मुजफ्फराबाद के आतंकी अड्डों को तहस-नहस कर दिया। बालाकोट में तबाही के मंजर की गवाही सेटेलाइट चित्र, छज्त्व् की सूचना एवं स्थानीय पाकिस्तानी निवासियों की सूचनाओं से उपरोक्त संदेह का कोई कारण नहीं रह जाता है, जिसमें आतंकियों को बहुत संख्या में अपनी जान गवानी पड़ी है एवं आतंकी अड्डों को पाकिस्तानी आर्मी ने अपने कब्जे में ले लिया और मीडिया व किसी भी जाँच एजेंसी को इसकी पड़ताल नहीं करने दी तथा अपने एफ-16 व जेएफ-16 लड़ाकू विमानों को भेजकर आक्रमण करने की असफल कोशिश की गई। यह अपने आपमें दर्शाता है कि इसमें संदेह की कोई आवश्यकता/गुंजाइश नहीं है और सैनिकों का शौर्य पराक्रम अभिनन्दनीय है।
विंग कमांडर डॉ.यू.के. चैधरी ने आगे कहा कि विपक्षी राजनैतिक दलों ने सेना पर संदेह कर अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दिया है, ताकि सेना का मनोबल गिर सके, लेकिन विंग कमांडर डॉ.यू.के. चैधरी ने चेतावनी देते हुए कहा कि हम फौजी ऐसी बातों को बर्दाश्त नहीं करेंगे और देश इन्हें कभी क्षमा नहीं करेगा । इसी तारतम्य में आगे विंग कमांडर डॉ.यू.के. चैधरी ने कहा कि अभी तक भुज, बीकानेर और नौशेरा सेक्टर में दुश्मन के तीन ड्रोन द्वारा भारतीय सेनाओं की जासूसी करने की कोशिश की गई, जिसको भारतीय वायु सेना ने गिराकर नाकाम कर दिया। इसी तरह पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों ने भारतीय सीमा के अन्दर घुसने का प्रयास किया, जिसको भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने अपनी अदम्य साहस का परिचय देते हुए उन्हें खदेड़ दिया।
पाकिस्तान बार-बार हारने एवं लज्जित होने के बावजूद भी अपनी कायराना हरकतों से बाज नहीं आ रहा है एवं एल.ओ.सी. के ऊपर लगातार गोलीबारी एवं रॉकेट से हमले जारी हैं, जिसकी वजह से दुश्मन द्वारा कोशिश की जा रही है कि ज्यादा से ज्यादा आतंकवादियों को संरक्षण देकर भारतीय सीमा में प्रवेश कराया जा सके एवं आतंकी गतिविधियों को संचालित किया जा सके। परन्तु भारतीय वायुसेना एवं पैरामिलिट्री फोर्स व भारतीय थलसेना द्वारा एतिहासिक शहादत देते हुए देष की सीमाओं को सुरक्षा प्रदान कर रही है, जिसकी जितनी भी भूरी-भूरी प्रशंसा की जाये, उतनी ही कम है।
इन परिस्थितियों में जब भारतीय शसस्त्र सेनाऐं एवं पैरामिलिट्री फोर्स अपनी जान की बाजी लगाकर कठिन परिस्थितियों में देष को सुरक्षा प्रदान कर रही है, ऐसे में विपक्षी राजनैतिक दल मुख्यतः काँग्रेस का सेना पर अविश्वास दर्शाना उनकी निम्न मानसिकता का परिचय है, जिसका खमियाजा उन्हें भुगतना पड़ेगा। यह वक्त है कि भारत के सभी राजनीतिक दल एक स्वर में शसस्त्र सेनाओं के पराक्रम पर संदेह न कर उनका मनोबल बढ़ाने के लिए प्रेरणा स्वरूप एकता का परिचय दें एवं उनका सम्बल बढ़ाने के लिए उनके पीछे मजबूत दीवार की तरह खड़े रहे।
अंत में विंग कमांडर डॉ.यू.के. चैधरी ने कहा कि हमने सेना में रहकर कारगिल युद्ध में भाग लिया है और देश की सेवा की है एवं सर्जिकल स्ट्राइक सेना का विशेषाधिकार होता है तथा किसी भी राजनीतिक दल को सेना के पराक्रम, शौर्य व शहादत पर गर्व होना चाहिए न कि संदेह किया जाना चाहिए।
धर्मेन्द्र 18 मार्च 2019