व्यापार

रत्न और आभूषण निर्यात मई में 20 प्रतिशत बढ़कर 25,365 करोड़ पहुंचा: जीजेईपीसी

19/06/2022

- वर्ष 2021 की समान अवधि में 46,376.57 करोड़ रुपए था
मुंबई (ईएमएस)। अमेरिका समेत महत्वपूर्ण बाजारों में मांग में तेजी के चलते रत्न एवं आभूषण निर्यात में मई 2022 में सालाना आधार पर तेजी दर्ज की गई है। यह पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में करीब 20 प्रतिशत बढ़कर 25,365.35 करोड़ रुपए पहुंच गया है। रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद (जीजेईपीसी) ने कहा कि मई 2021 में रत्न एवं आभूषण का कुल निर्यात 21,156.10 करोड़ रुपए था। 2022 के अप्रैल-मई में रत्न एवं आभूषण का कुल सकल निर्यात 10.08 फीसदी बढ़कर 51,050.53 करोड़ रुपए पहुंच गया जो 2021 की समान अवधि में 46,376.57 करोड़ रुपए था। जीजेईपीसी के एक व‎रिष्ठ अ‎धिकारी का कहना है ‎कि हम भारत को दुनिया का पसंदीदा रत्न एवं आभूषण विनिर्माता बनने की दिशा में बढ़ता देख रहे हैं। तराशे एवं पॉलिश किए गए हीरों का निर्यात भी मई में 10.04 फीसदी बढ़कर 16,156.03 करोड़ रुपए हो गया जो 2021 की समान अवधि में 14,681.42 करोड़ रुपए था। भारत सोने के बड़े आयातकों में से एक हैं लेकिन यहां से विदेशों में रत्न एवं आभूषण का बड़े स्तर पर निर्यात होता है। भारत स्वयं भी रत्न-आभूषण और सोने का बड़ा उपभोक्ता बाजार है। उल्लेखनीय है कि देश में सोने का आयात पिछले वित्त वर्ष 2021-22 में 33.34 फीसदी बढ़कर 46.14 अरब डॉलर पर पहुंच गया। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2020-21 में भारत का सोने का आयात 34.62 अरब डॉलर रहा था।
सतीश मोरे/19जून
---