राष्ट्रीय

10 अगस्त को खत्म हो जाएगा राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू का कार्यकाल

06/08/2022

-8 अगस्त को सदन में दी जाएगी विदाई
नई दिल्ली (ईएमएस)। देश के उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू का कार्यकाल 10 अगस्त को खत्म हो रहा है। अपने कार्यकाल में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने सभापति के रूप में उन्होंने अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई। सभापति के तौर पर उनके कार्यकाल की शुरुआत को थोड़ा धीमा कहा जा सकता है, लेकिन बाद के दिनों में वह अपने फार्म में आ गए।
अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू के कार्यकाल की शुरुआत सदन की कम प्रोडक्टिविटी के साथ हुई, लेकिन बाद में इसमें काफी सुधार किया गया। इस साल के बजट सत्र तक उन्होंने जिन 13 पूर्ण सत्रों की अध्यक्षता की, उनमें से पहले पांच सत्रों की प्रोडक्टिविटी केवल 6.80 प्रतिशत से 58.80 प्रतिशत के बीच रही है। अगले 8 सत्रों में से 6 सत्र की प्रोडक्टिविटी में 76 प्रतिशत से 105 प्रतिशत का सुधार हुआ है, जिसमें 5 सत्र सुचारु रूप से चलें।
इस अवधि के दौरान सदन में रुकावट और जबरन स्थगन के लिए 58 मुद्दे मुख्य रूप से जिम्मेदार थे। आधिकारिक बयान में बताया गया राज्य सभा की 57 प्रतिशत बैठकों में दिन के किसी भी भाग या पूरे दिन के लिए सदन में रुकावट और जबरन स्थगन देखा गया है। जिन मुद्दों के चलते राज्यसभा सबसे अधिक बार स्थगित हुआ, उसमें तीन कृषि कानूनों को पारित करना, किसानों का विरोध प्रदर्शन, पेगासस स्पाइवेयर, कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड का गठन और 2021 के शीतकालीन सत्र में 12 सदस्यों का निलंबन का फैसला शामिल था।
उपराष्ट्रपति नायडू के कार्यकाल के दौरान राज्यसभा के लगभग 78 प्रतिशत सदस्य प्रतिदिन सदन में उपस्थित होते थे। जबकि लगभग 3 प्रतिशत सदस्य प्रतिदिन उपस्थित नहीं हुए। 30 प्रतिशत सदस्यों ने विभिन्न सत्रों में पूर्ण उपस्थिति की सूचना दी थी।
उल्लेखनीय है कि राज्यसभा में सभापति एम वेंकैया नायडू को विदाई दी जाएगी, जिनका कार्यकाल 10 अगस्त को समाप्त हो रहा है। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने शुक्रवार को सदन में इसकी घोषणा की। उपसभापति हरिवंश ने कहा जैसा कि आप सभी जानते हैं कि राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू 10 अगस्त को अवकाश ग्रहण कर रहे हैं। सदन में उन्हें सोमवार यानी कि 8 अगस्त को विदाई दी जाएगी और इसके चलते उस दिन शून्यकाल नहीं होगा।
अनिरुद्ध, ईएमएस, 06 अगस्त 2022