व्यापार

भगोड़े विजय माल्या से बकाया नहीं वसूल पाएंगे बैंक!

09/01/2019

- नया कानून के अनुसार ‎डिफाल्टर की संप‎त्ति सरकार की हो जाएगी
मुंबई (ईएमएस)। पिछले हफ्ते विजय माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी करार दिए जाने के बाद उसे कर्ज देने वाले बैंक मुसीबत में पड़ गए हैं कि उनकी बकाया रकम का क्या होगा। दरअसल जिस नए कानून के तहत माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी करार दिया गया, वह डिफॉल्टर की संपत्ति जब्त करने की इजाजत सरकार को देता है। ऐसा होने पर वह संपत्ति सरकार की हो जाएगी। बैंकरों को यह डर है कि इस तरह तो वे अपना बकाया वसूल नहीं पाएंगे। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट के तहत प्रॉपर्टी कुर्क की जाती थी और बैंक अपना बकाया वसूलने के लिए प्रॉपर्टी बेचने का आवेदन दे सकते थे। नए भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है। माल्या को कर्ज देने वाले एक सरकारी बैंक के अधिकारी ने कहाक ‎कि तकनीकी रूप से देखें तो एसेट्स को सरकार जब्त करेगी। ऐसा होने पर यह साफ नहीं है कि हम बकाया कैसे रिकवर करेंगे। नए कानून के तहत माल्या को ही पहला भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया गया है। माना जा रहा है ‎कि सरकार हमें दावा करने का मौका देगी। लीगल ‎‎‎विशेषज्ञ ने कहा कि पीएमएलए के तहत लागू होने वाले नियम नए कानून में लागू नहीं होंगे और बैंकर्स को जब्त की गईं करीब 12200 करोड़ की एसेट्स पर दावा करने के लिए तस्वीर साफ होने का इंतजार करना होगा। माल्या को भगोड़ा करार देने के लिए एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट ने जो आवेदन दिया था, उसमें लेंडर्स भी एक पक्ष के रूप में शामिल थे। हालांकि यह साफ नहीं कि वे अपना दावा किस तरह करेंगे।
सतीश मोरे/09जनवरी
---