ज़रा हटके

डाइट के नियमों को फॉलो कर हेल्दी रहने के साथ ही ले सकते हैं मनपसंद चीजों का मजा

01/12/2020

-उम्र, एक्टिविटी लेवल, बॉडी की बनावट और हेल्थ पर डिपेंड करती है रोजाना कैलोरी की खपत
नई दिल्ली(ईएमएस)। अपने कुल वजन (पाउंड में) को 15 से गुणा करें। उदाहरण के लिए 130 पाउंड है तो इसमें 15 से गुणा करें। मतलब रोजाना 1950 कैलोरी की आवश्यकता होगी। एक पाउंड 450 ग्राम होता है। तो इस हिसाब से अपना डाइट रूल बनाएं। रोज़ाना कैलोरी की खपत आपकी उम्र, एक्टिविटी लेवल, बॉडी की बनावट और हेल्थ पर डिपेंड करती है। अगर आप हेल्दी हैं और रोजाना एक्सरसाइज़ भी करते हैं तो पता चल सकता है कि आपको कितनी कैलोरी की जरूरत होगी।
बेशक आप साल के ज्यादातर महीने हेल्थ को मेनटेन करने में बिताते हैं लेकिन शादियों और त्योहारों के सीज़न में डाइट में मीठा, मैदे और नमक से बनने वाले पकवानों का सेवन होता ही है। कुछ लोग नमक, सैचुरेटेड फैट और एडेड शुगर के प्रति ज्यादा संवेदनशील होते हैं। ऐसे लोग कुछ हफ्ते भी लापरवाही करते हैं तो उनके ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल जैसी चीज़ों पर असर पड़ने लगता है। जो लोग हेल्दी हैं वो खास मौकों पर अपनी पसंद की चीज़ें आराम से खा सकते हैं।
विशेषज्ञों के मुताबिक रोज़ाना डाइट में दाल-चावल, रोटी-सब्जी खाना किसी भी तरह से अनहेल्दी नहीं बस इनकी मात्रा सही होनी चाहिए, क्योंकि ज्यादातर लोग अपनी पसंद के हिसाब से इनकी मात्रा घटा-बढ़ा देते हैं जो वजन और पेट बढ़ने के लिए जिम्मेदार है। इसलिए एक हेल्दी डाइट रूल बनाना बहुत ही जरूरी होता है। जिसमें क्या खाना है सिर्फ यहीं नहीं, समय भी निर्धारित करें। हर वक्त कुछ न कुछ खाते रहने से हमारी बॉडी उसी तरह से सेट हो जाती है और ऐसे लोगों के लिए भूख कंट्रोल करना लगभग नामुमकिन होता है। एक बार में बहुत ही अनहेल्दी चीज़ें खाना शरीर में कई तरह के बायोकेमिकल बदलाव कर देता है। इससे खाने के बाद तुरंत ही ट्राईग्लिसराइड का स्तर बढ़ सकता है, जिससे खाने के कुछ घंटों के बाद ही हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। यदि किसी तरह की बीमारी का शिकार नहीं हैं तो कुछ खास मौकों पर आप चीटिंग कर सकते हैं। यानी अगर आप रोजाना 3 मील लेते हैं तो हफ्ते में आपकी 21 मील होगी। इसके हिसाब से हफ्ते में दो बार अपनी पसंद की चीज़ें खा सकते हैं।
पवन सोनी/ईएमएस 01दिसम्बर 2020