राज्य समाचार

आस्ताना ए आलिया पर महिलाओं ने पढ़ी मिलाद, कोरोना के चलते उर्स मेला निरस्त

19/03/2020


बाबा को चादर पेश करतीं महिलाएं।
शाजापुर (ईएमएस)। स्थानीय दायरा स्थित हजरत शाह साहब वारसी के आस्ताना ए आलिया पर 99वें उर्से मुबारक की शुरूआत हो चुकी है और इसीके चलते मजारे अकदस पर दुरूद-फातेहा पढ़ी जाने के साथ ही विभिन्न धार्मिक आयोजन भी किए जा रहे हैं। हालांकि इस वर्ष कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के अंदेशे के कारण मजार परिसर में लगने वाले मेले का आयोजन निरस्त कर दिया गया है। मजार कमेटी के पदाधिकारियों ने बताया कि कोरोना के चलते इस बार उर्स का आयोजन मजार परिसर में ही किया जा रहा है। उर्स को लेकर बाबा के मजार को आकर्षक विद्युत सजावट कर सुसज्जित भी किया गया है। सैय्यद साजिद अली शाह वारसी ने बताया कि उर्स के दौरान 18 मार्च को महिलाओं के द्वारा मिलाद शरीफ पढ़ी गई और बाबा साहब को चादर पेश कर अमनो-अमान की दुआएं की गई। कोरोना के कहर से विश्वभर के लोग सुरक्षित रहें इसको लेकर विशेष दुआ की गई।
इस वर्ष उर्स में नही लगेंगे झूले
उल्लेखनीय है कि इस वर्ष कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के अंदेशे के मद्देनजर दायरा स्थित मजार पर लगने वाले पांच दिवसीय उर्स के मेले को भी निरस्त कर दिया गया है। ऐहतियातन के तौर पर इस वर्ष मजार परिसर में झूले और अन्य दुकानें भी नही लगाई गई हैं। साजिद अली वारसी ने बताया कि उर्स के मौके पर इस वर्ष सिर्फ मजार पर ही कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। 22 मार्च को अलसुबह 4 बजकर 13 मिनिट पर कुल पढ़ी जाएगी, इसीके साथ उर्स का समापन हो जाएगा।
सोनी /ईएमएस/19मार्च2020