राष्ट्रीय

कुंभ में अतिथि-श्रद्धालुओं को स्वच्छ गंगा जल उपलब्ध कराने की तैयारी

10/01/2019


प्रयागराज (ईएमएस)। प्रयागराज में कुंभ 2019' के आयोजन की तैयारियां जोर शोर से चल रही हैं। इस महाकुंभ की भव्यता को बनाए रखने और विश्व के इस सबसे बड़े समागम को ऐतिहासिक बनाने केंद्र और राज्य सरकारें पुरजोर को‎शिश कर रही हैं। खासतौर पर कुंभ स्नान के ‎लिए स्वच्छ गंगा जल उपलब्ध रहे इस बात का ‎विशेष ख्याल रखा जा रहा है। कुंभ के उपमेला अधिकारी राजीव कुमार ने कहा कि इस बार अतिथि और श्रद्धालुओं के लिए गंगा में स्वच्छ जल ‎मिले इसकी पूरी व्यवस्था की गयी है।
इस व्यवस्था को बनाए रखने के ‎लिए कानपुर के भी सभी नाले बंद कर ‎दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस बार लगभग एक लाख से ज्यादा विदेशी श्रद्धालु आएंगे और शाही स्नान से पहले गंगा में जल का प्रवाह बढ़ेगा। इसके साथ ही 15 देशों के राष्ट्राध्यक्ष भी कुंभ आएंगे। इस‎लिए भारत की छवि खराब न हो, इसके लिए विदेशियों के लिए अलग से जेट्टी बनाए जाएंगे। इस बार कुंभ में 1 लाख 20 हजार टॉयलेट बनाए गए हैं। कुंभ मेले के लिए सरकार ने पूरी तैयारी कर ली हैं। अतिथि और श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई परेशानी न हो, इसके लिए 300 किलोमीटर का पथ बनाया गया है।
पहली बार कुंभ क्षेत्र में इण्टीग्रेटेड कंट्रोल कमाण्ड एण्ड सेण्टर बनाया गया है, जिससे किसी भी घटना पर सीधी नजर रखी जा सकेगी। कुंभ में टेण्ट सिटी, पेण्ट माई सिटी, अक्षयवट दर्शन, संस्कृति ग्राम आदि जैसी नई व्यवस्था बनायी गयी है साथ ही लेज़र शो और डिजिटल साइनेज की भी सु‎विधा है। इस कुंभ क्षेत्र का विस्तार इस बार 3200 हेक्टेयर क्षेत्र तक में किया गया है। अ‎‎धिकारी राजीव कुमार ने बताया कि ऐसा पहली बार हुआ जब ‎70 देशों के राजदूतों ने कुंभ आयोजन की तैयारियों को देखा और दुनिया के सबसे बड़े संगम का दर्शन किया हो।
‎मिथलेश/ईएमएस 10 जनवरी 2019