राज्य समाचार

(शाजापुर) मतगणना स्थल पर प्रशासन की चाकचौबंद व्यवस्था

07/12/2018

- अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए बलवा किट के साथ तैयार रहेगा फोर्स
फोटो ०७ एसजेआर-०६
शाजापुर (ईएमएस)। 11 दिसंबर को पॉलीटेक्निक कॉलेज में मतगणना होगी। मतगणना के दौरान या परिणाम घोषित होने के बाद समर्थकों-कार्यकताओं में किसी तरह का विवाद या झड़प आदि न हो। इसके लिए पुलिस चप्पे-चप्पे पर नजर रखने के साथ सादी ड्रेस में भीड़ के बीत मौजूद भी रहेगी। बावजूद अगर कोई विवाद या झड़प होती है तो ऐसे हालात से निपटने के लिए भी पुलिस तैयार रहेगी। मतगणना स्थल के बाहर बलवा किट के साथ बड़ी सं या में पुलिस फोर्स तैनात रहेगा, जो इस तरह की किसी भी घटना से निपटेगा।
पुलिस अधिकारियोंं का कहना है कि किसी भी प्रकार से गड़बड़ी करने वालों से स ती से निपटा जाएगा। दूसरी और पुलिस तकनीकी रूप से भी लोगों पर नजर रखेगी। दुपाड़ा तिराहे पर लगे सीसीटीवी कै मरों के साथ ही मतगणना स्थल पर भी 30 से अधिक अस्थायी सीसीटीवी कै मरे लगाए गए हैं। इनके साथ अत्याधुनिक कैमरों से लैस सीसीटीवी सर्विलांस वाहन भी तैनात रहेगा, जो हर गतिविधि को कैद करेगा और किसी भी तरह की गड़बड़ी आदि होने की दशा में आरोपियों की पहचान करने में मदद करेगा।
वर्तमान में पॉलीटेक्निक कॉलेज में ईवीएम स्ट्रांग रूम बनाया गया है। यहां जिले की तीनों विधानसभा सीटों की ईवीएम मशीन रखी हैं। इसके चलते अभी भी यहां कड़ा सुरक्षा प्रबंध हैं। तीन स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था में जिला पुलिस, सीआईएसएप और एसएएफ का फोर्स यहां तैनात है। इसके साथ ही यहां पहुंचने वाले हर व्यक्ति की तकनीकी जांच भी होती है। जानकारी के अनुसार यहां करीब 150 सुरक्षाकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई हैं। तीन स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था में सबसे पहला घेरा जिला पुलिस, उसके बाद एसएएफ और अंतिम घेरा सीआईएसएफ का है। ये तीनों फोर्स हर पल यहां तैनात हैं।
मतगणना स्थल के आसपास कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस अफसरों और जवानों की तैनाती के साथ ही आधुनिक कैमरों से लैस पुलिस वाहन भी तैनात रहेगा। इस वाहन के माध्यम से पुलिस मतगणनास्थल के बाहर की गतिविधियां आसानी से कै मरे में कैद कर सके गी। वाहन में लगे कै मरों के माध्यम से चारों दिशाओं की निगरानी की जा सकती है। वाहन में चार हाई क्वालिटी सीसीटीवी कै मरे लगे हैं। खास बात यह है कि यह कै मरे 360 डिग्री पर घूम सकते हैं। एक कैमरा गाड़ी के ठीक ऊपर लगाया गया है। निगरानी के लिए इसे गाड़ी में बैठे-बैठे और अधिक ऊंचाई तक पहुंचाया जा सकता है। सभी कैमरों को ऑटो सिस्टम से संचालित किया जा सकता है।
ईएमएस/ चन्द्रबली सिंह / 07 दिसम्बर 2018