क्षेत्रीय

श्रम कानूनों में बदलाव के खिलाफ मजदूर संघ ने दिया ज्ञापन

22/05/2020

अशोकनगर (ईएमएस)। सरकार द्वारा श्रम कानूनों में किए गए बदलाव के विरोध में बीते गुरुवार को भारतीय मजदूर संघ ने राष्ट्रपति के नाम अपर कलेक्टर को सौंपा। भारतीय मजदूर संघ जिलाध्यक्ष रामवीर सिंह रघुवंशी एवं जिला मंत्री हैरी रघुवंशी ने बताया कि कुछ राज्य सरकारों ने अध्यादेश पारित कर श्रम कानूनों को 3-4 साल के लिए निरस्त करने का निर्णय लिया है। अन्य राज्य सरकारें भी उसी राह चलने के लिए प्रयासरत है। काम के घंटे 8 घंटे से बढ़ाकर 12 घंटे करना अनुचित है। ज्ञापन में बताया कि कुछ राज्य सरकारों जैसे उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश एवं गुजरात ने अध्यादेश पारित कर श्रम कानूनों को 3 से 4 साल के लिए निरस्त करने का निर्णय लिया है। अभी और भी राज्य सरकारें इस रास्ते पर चलने का सोच रहीं है। राज्य सरकारों ने भारतीय मजदूर संघ सहित अन्य श्रमिक प्रतिनिधियों से सलाह किए बिना ही कारखानों के अधिनियम में संशोधन कर काम के तय 8 घंटे को बढ़ाकर 12 घंटे कर दिया है। यह श्रमिक विकास में अवरोधक है। इसलिए किए गए संसोधनों को वापस लिया जाए। सभी श्रमिकों को मार्च और अप्रैल 2020 की मजदूरी का भुगतान सुनिश्चित किया जाए। सहित अन्य मांगें शामिल रहीं। इस अवसर पर ज्ञापन सौंपने वालों में भारतीय मजदूर संघ के जिला उपाध्यक्ष बालचंद नरवरिया एसके तिवारी, कार्यालय मंत्री माधव सिंह करैया, पैशन संघ के अध्यक्ष अमरसिंह रघुवंशी, नगरपालिका सफाई कामगार महासंघ के अध्यक्ष ओमप्रकाश बालू, राज्य कर्मचारी संघ के सचिव महेंद्र रघुवंशी और विधुत इंजीनियरिंग एवं कमचारी एसोसिएशन के सिरवर कुमार पटेल, वीरेंद्र सिंह रघुवंशी, कैलाश सिंह चंदेल आदि उपस्थित रहे।
प्रवीण/22/05/2020