राज्य समाचार

वंदे भारत ट्रेन इंदौर-भोपाल रुट पर भी चलेगी

15/03/2019


फरवरी से शुरु हुई है नईदिल्ली से वाराणसी के बीच
भोपाल (ईएमएस)। वंदे भारत एक्सप्रेस (ट्रेन18) को भविष्य में इंदौर-भोपाल रूट पर भी चलाने की योजना है। वर्तमान में यह ट्रेन नई दिल्ली से वाराणसी के बीच चल रही है। यहां फरवरी महीने से इसकी विधिवत शुरुआत की गई है। इसके अलावा यही ट्रेन नई दिल्ली-ग्वालियर रूट पर भी चलाई जा सकती है। रेल मंत्रालय ने पहली वंदे भारत एक्सप्रेस के सफल संचालन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अनुमति से इस तरह के 30 ट्रेन सेट बनाने का ऑर्डर चेन्नई स्थित इंटीग्रल कोच फैक्टरी को दिया है। जैसे-जैसे सेट बनते जाएंगे, रेल मंत्रालय उन्हें अलग-अलग रूट पर चलाता जाएगा। रेलवे की योजना है कि देश की इस पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन को ऐसे मुख्य मार्गों पर चलाया जाए, जहां यात्रियों की आवाजाही काफी संख्या में है। फिलहाल मध्यप्रदेश में तो इंदौर-भोपाल और दिल्ली-ग्वालियर रूट ही चिह्नित किए गए हैं, लेकिन भविष्य में इसमें और नए मार्ग जोड़े जा सकते हैं। देखना यह होगा कि रेलवे इंदौर-भोपाल रूट पर वंदे भारत एक्सप्रेस चलाने का फैसला लेता है तो इसका टाइम टेबल और किराया क्या होगा? ट्रेन की खासियत है कि इसमें इंजन नहीं होता और यह देश की सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन है। इसके सभी कोच एसी चेयरकार के हैं और इसका किराया शताब्दी एक्सप्रेस की तुलना में 40 से 50 प्रतिशत तक ज्यादा है। इससे पहले रेलवे इंदौर-भोपाल के बीच एसी डबल डेकर ट्रेन चलाने का प्रयोग कर चुका है लेकिन अत्यधिक किराए और केवल एसी श्रेणी के कोच के कारण यह ट्रेन सफल नहीं हो पाई।
डबल डेकर ट्रेन सितंबर-13 में शुरू की गई लेकिन यात्री नहीं मिलने के कारण दिसंबर-15 में इसे बंद कर दिया गया। इसके विपरीत इस रूट पर चल रही इंदौर-भोपाल इंटरसिटी एक्सप्रेस और इंदौर-भोपाल रात्रिकालीन पैसेंजर ट्रेन को रोज अच्छी संख्या में यात्री मिलते हैं। पिछले साल भोपाल रेल मंडल ने इंदौर भोपाल के बीच नॉन स्टॉप इंटरसिटी ट्रेन चलाने का फैसला लिया था लेकिन रेलवे बोर्ड ने इसे मंजूरी नहीं दी। रेलवे मामलों के वरिष्ठ जानकार नागेश नामजोशी का तर्क है कि वंदे भारत ट्रेन की स्पीड 160 किलोमीटर प्रति घंटा है जबकि इंदौर-भोपाल के बीच बिछी पटरियों की क्षमता इतनी नहीं है। यदि ट्रेन की गति कम करके चलाया जाता है तो फिर वंदे भारत एक्सप्रेस चलाने का क्या मतलब रहेगा? इससे बेहतर है कि इस रूट पर सामान्य सुपरफास्ट ट्रेन चलाई जाए। वैसे भी इंदौर-भोपाल के बीच डबल डेकर ट्रेन का प्रयोग असफल हो चुका है। इससे बेहतर होगा कि इंदौर से दिल्ली या इंदौर से सूरत जैसे रूट पर यह ट्रेन चलाई जाए। इस संबंध में रतलाम रेल मंडल के डीआरएम आरएन सुनकर का कहना है कि यह बड़ा फैसला है और यदि ऐसा हुआ है तो संभवत: उच्च स्तर पर हुआ होगा। फिलहाल मुझे इसकी जानकारी नहीं है।
सुदामा नर-वरे/15मार्च2019