व्यापार

एलजी कंपनी ने बंद किया मोबाइल फोन का कारोबार

06/04/2021

-चीनी कंप‎नियों से ‎मिल रही थी कडी टक्कर
नई दिल्ली (ईएमएस)। मोबाइल निर्माता कंपनी एलजी ने अपना ये कारोबार पूरी तरह बंद करने का ऐलान किया है। कभी दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी साउथ कोरिया की इलेक्ट्रॉनिक कंपनी एलजी ने अपने मोबाइल बिजनेस से हटने का फैसला किया है। कंपनी के मुताबिक वो घाटे में चल रहे अपने मोबाइल फोन कारोबार को पूरी तरह बंद करेगी और जुलाई के अंत तक मोबाइल फोन बिजनेस से पूरी तरह से बाहर निकल जाएगी। एलजी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने इस प्रस्ताव को अपनी मंजूरी दे दी है। वैसे, कंपनी ने दावा किया है कि फिलहाल फोन इनवेंट्री के खत्म होने तक बिक्री चालू रखेगी और अपन फोन्स के लिए सर्विस और सपोर्ट हमेशा उपलब्ध कराएगी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक 2020 की तीसरी तिमाही तक एलजी नॉर्थ अमेरिका में तीसरे नंबर पर थी। इसके पास वहां 13 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी थी, जबकि एप्पल की यहां 39 प्रतिशत और सैमसंग की 30 प्रतिशत हिस्सेदारी है।2020 की अंतिम तिमाही में एलजी की बिक्री पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 5 प्रतिशत बढ़ी भी थी। लेकिन उसका घाटा बढ़ता जा रहा था। इसके बंद होने की कुछ वजहें जैसे कंपनी 2015 की दूसरी तिमाही से लगातार 23 तिमाही तक घाटे का सामना करती रही है। प्रीमियम प्रोडक्ट्स की कमजोर बिक्री के कारण कंपनी का लाभ घटा था। 2020 की तीसरी तिमाही तक कंपनी का ग्लोबल शेयर घटकर 2 प्रतिशत रह गया था। चीन की मोबाइल कंपनियों ने उसे कड़ी टक्कर दी और आखिर उसे बाजार से बाहर ही कर दिया। मोबाइल बिजनेस में सहयोग के लिए इसकी कई कंपनियों जैसे गूगल, फेसबुक, फॉक्सवैगन आदि से बातचीत हो रही थी, लेकिन किसी के साथ डील नहीं हो सकी। वैसे एलजी ने कहा है कि वो अब इलेक्ट्रिक व्हीकल कंपोनेंट्स, आर्टिफिशल इंटेलिजेंस, स्मार्ट होम्स, बिजनेस-टू-बिजनेस सॉलूशन जैसे बिजनेस एरिया पर फोकस कर सकेगी। एलजी ने पहले ही कुछ कर्मचारियों को फोन डिविज़न से बिज़नस यूनिट में शिफ्ट करना शुरू कर दिया है। कुछ कर्मचारियों की छंटनी भी हो सकती है, और कंपनी के मुताबिक कि छंटनी संबंधी फैसले स्थानीय स्तर पर लिए जाएंगे। इस घोषणा के बाद कंपनी के शेयर में 2.5 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है।
सुदामा नर-वरे/06अप्रैल2021