क्षेत्रीय

आठ माह पहले हुई लूट का पुलिस ने किया खुलासा, चार आरोपी गिरफ्तार

18/03/2019

व्यापारी के ऑफिस में पैसे लेने आए किसान की कनपटी पर पिस्टल अड़ाकर की थी लूट
अशोकनगर (ईएमएस)। नगर के कोतवाली थाना क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले पुराना बजार, प्रोसेसन रोड़ कन्या स्कूल के पीछे स्थित व्यापारी शीलचन्द्र की दुकान से किसान के माथे पर कट्टा लगाकर लूट की घटना को अंजाम देने वाले आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
सोमवार को लूट की घटना का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक पंकज कुमावत ने बताया कि गत तीन जुलाई-2018 को शहर के पुराना बाजार स्थित मनोज ब्रदर्स की दुकान पर दिन दहाड़े गोली चलाकर किसान के साथ लूट की वारदात को अंजाम दिया गया था। आरोपित लूट की वारदात कर मोटरसाइकिल से गोली चलाकर भाग गए थे। आठ माह पूर्व हुई सनसनीखेज वारदात को लेकर पुलिस पिछले दिनों से आरोपितों की तलाश में लगी हुई थी। मुखबिर की सूचना पर सिटी एवं देहात पुलिस ने मिलकर सभी आरोपितों की दबोचने में सफलता हासिल की है। पुलिस अधीक्षक श्री कुमावत ने बताया कि बीते दिनों मुखबिर की सूचना मिलने पर कोतवाली टीआई प्रकाश मुदगिल और देहात थाना प्रभारी रोहित दुबे, थाना कोतवाली एएसआई आलोक सिंह तोमर, एएसआई शिवकुमार शर्मा, बेद प्रकाश तिवारी के साथ टीम बनाकर मुखबिर द्वारा दिए गए पते पर दबिश दी गई। उक्त कार्रवाई में पुलिस ने आरोपी बऊआ चौबे उर्फ आशीष चतुर्वेदी निवासी भिण्ड एवं दिनेश जाटव निवासी ग्राम इंदार जिला शिवपुरी और छोटू उर्फ रामबाबू आदिवासी निवासी शंकर कालोनी, मोनू अहिरवार निवासी शंकर कालोनी को गिरफ्तार कर पूछताछ की गई। पूछताछ में आरोपियों ने जुर्म स्वीकार किया गया और घटना में उपयोग की गई मोटरसाइकिल सहित एक पिस्टल एवं लूटे गए रुपया अपने घर पर होना बताया। जिनका नेमो तैयार कर आरोपी बऊआ चौबे उर्फ आशीष चतुर्वेदी निवासी भिण्ड से 25 हजार 500 रुपया व एक पिस्टल एवं आरोपी दिनेश जाटव से 12 हजार 300 रुपया एवं लूट में प्रयोग की गई बजाज डिस्कबर मोटरसाइकिल, आरोपी छोटू उर्फ रामबाबू आदिवासी से 11 हजार 500 रुपया, घटना में प्रयोग की पिस्टल को छोटू अहिरवार ने आरोपी दिनेश जाटव को दी गई थी, जिस आरोपी मोनू से देहात थाना में आर्मस एक्ट में जप्त होना पाया गया है। लूट के प्रकरण में कुल 39 हजार 300 रुपया, एक पिस्टल, एक मोटरसाइकिल बरामद की गई हैं।
भिण्ड में हुई थी मोनू और बऊआ की दोस्ती:
पुलिस ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि मोनू अहिरवार और बऊआ चौबे के पिता भिण्ड के पीएचई विभाग में एक साथ काम करते थी। वहीं पर मोनू और बऊआ की दोस्ती हो गई थी। बीते करीब 8-9 माह पहले बऊआ भिण्ड से अशोकनगर आया और मोनू से पैसे कमाने की स्कीम पूछने लगा, जिसके बाद दोनों ने मिलकर उक्त घटना की रूपरेखा तैयार की और अन्य दो साथियों को शामिल कर घटना को अजाम दिया था।
व्यापारी को लूटने की थी प्लानिंग:
उक्त घटना के खुलासे में सामने आया कि आरोपियों द्वारा व्यापारी मनोज ब्रदर्स को लूटने की प्लानिंग बनाई थी। जिसके लिए वह योजनावद्ध तरीके से व्यापारी की दुकान के बाहर पहले से ही घात लगाकर तैयार बैठे हुए थे। लेकिन व्यापारी की सजगता की बजह से आरोपी अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो पाए और जल्दवाजी में जो हाथ लगा उसे ही लूटकर मौके पर फरार हो गए थे।
1 लाख 8 हजार की लूट को दिया था अंजाम:
उल्लेखनीय है कि आरोपियों द्वारा किसान के माथे पर कट्टा लगाकर एक लाख आठ हजार चार सौ नब्बे रुपया लूट की घटना का अंजाम दिया था। इस बीच बदमाशों द्वारा व्यापारी से भी रुपये छीनने का प्रयास किया गया। लेकिन जब व्यापारी ने उन्हे रोकने की कोशिश की तो बदमाश कट्टों से फायरिंग करते हुए मौके से फरार हो गए थे। बदमाशों द्वारा रास्ते में भी फायरिंग की गई थी।
प्रवीण/18/03/2019