क्षेत्रीय

कर्जमारी के नाम पर किसानों से छलावा : उमाशंकर गुप्ता

11/09/2019

श्री गुप्ता ने भाजपा के घंटानाथ आंदालन के तहत मुरैना में किया जनसभा को संबोधित
भोपाल (ईएमएस)। 9 माह पूर्व बनी कांग्रेस सरकार को घेरने आज भाजपा ने घंटानाद आंदोलन के चलते कमलनाथ सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आई। वहीं भारतीय जनता पार्टी द्वारा जिला मुरैना में आयोजित घंटानाद आंदोलन में मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार भगाओ कार्यक्रम में शामिल हुए पूर्व मंत्री माननीय उमाशंकर गुप्ता ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।
श्री गुप्ता ने बताया कि जबसे कांग्रेस सरकार सत्ता में आई है कांग्रेस में गुटबाजी चरम पर पहुँच गई है। उन्होंने बताया कि सरकार के फैसलों के चलते किसान परेशान है, कर्जमाफी के नाम पर किसानों से छलावा किया गया। अब उन पर 14 फीसदी जुर्माने के साथ कर्ज के भुगतान का दबाव बनाया जा रहा है। तबादलों ने गवर्नेंस को चौपट कर दिया।
कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी जिला मुरैना के जिलाध्यक्ष केदार सिंह यादव एवं पूर्व मंत्री रुस्तम सिंह, पूर्व विधायक सूबेदार सिकरवार, गजराज सिंह, पूर्व विधायक, युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष मयंक शर्मा, गिरीश अग्रवाल एवं मनीष गुप्ता एवं सैकड़ों की संख्या में पार्टी के कार्यकर्ता उपस्थित थे।
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा में तो नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव जबलपुर, ग्वालियर में भूपेंद्र सिंह ने आंदोलन का नेतृत्व किया। इंदौर में ये आंदोलन पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और सागर में पार्टी उपाध्यक्ष प्रभात झा के नेतृत्व में किया गया।
मध्यप्रदेश में सभी जिलों के कलेक्ट्रेट को घेरा गया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने शंख, झांझ मंजीरा, घंटे घडिय़ाल बजाकर सरकार को जगाने की कोशिश की और मध्यप्रदेश बचाओ-कांग्रेस सरकार भगाओ के नारे लगाए।
इधर भोपाल में कलेक्ट्रेट के बाहर भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह और अन्य कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और केन्द्रीय जेल ले गई। जहां उन्हें छोड़ दिया गया। यहां भी भाजपा कार्यकर्ताओं ने सरकार की सद्बुद्धि के लिए केन्द्रीय जेल के सामने रघुपति राघव राजाराम का भजन गाया गया।
सबसे असहाय मुख्यमंत्री :
वहीं भोपाल में आंदोलन का नेतृत्व कर रहे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा- कांग्रेस की निकम्मी सरकार ने मप्र के हित सूली पर चढ़ा दिए हैं। सोयाबीन में अफलन हैं, लेकिन मुख्यमंत्री तो दूर। मंत्री भी किसानों से मिलने नहीं गए। हमने इनकी नींद खोलने के लिए घंटानाद आंदोलन किया। अगर ये नींद से नहीं जागे तो हम जनता के लिए आगे और मजबूती से लड़ेंगे। इस बार ज्ञापन नहीं देने के सवाल पर कहा कि लगातार ज्ञापन और शिकायत करके हमने जगाने की कोशिश की। लेकिन, वह नहीं जागी। इसलिए इस बार ज्ञापन नहीं देंगे। घंटानाद आंदोलन पूरे प्रदेश में किया गया।
भाजपा का दावा है कि पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था बिगडऩे से अराजकता की स्थिति है। भोपाल में महापौर आलोक शर्मा, विधायक रामेश्वर शर्मा और विश्वास सारंग के साथ हजारों भाजपा कार्यकर्ता हाथों में शंख, घंटे और मंजीरे लेकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचे और विरोध किया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष विकास विरानी, मण्डल अध्यक्ष राकेश जोशी, महामंत्री नितिन परिहार, प्रभारी राकेश जैन, संयोजक भेरूलाल बाघेला, लिखेश्वर लिल्हारे, अनिल बावस्कर, विजय सिंह,रोहित बाघेला, सुनील मालाधरे, अर्चना सोलंकी, आशा पारोचे, श्वेता मालवीय, महेन्द्र वर्मा, महेन्द्र डब्बू, अभिषेक, समेत कई कार्यकर्ता मौजूद थे।
धर्मेन्द्र 11 सितम्बर 2019