अंतरराष्ट्रीय

22.87 करोड़ जैकपाट के बाद भी महिला को चुकाना पड़ेगा 54.90 करोड़ का जुर्माना

15/05/2019

लंदन (ईएमएस)। गलत काम का नतीजा हमेशा ही गलत होता है लंदन की एक महिला के लिए करोड़ों की लॉटरी जीतना 11 साल बाद मुसीबत बन गया। अमांडा नटल (45) ने 11 साल पहले 25 लाख पाउंड (22.87 करोड़ रुपए) की लॉटरी जीती थी लेकिन अब उन्हें 60 लाख पाउंड (54.90 करोड़ रुपए का जुर्माना चुकाना होगा। लॉटरी जीतने के बाद अमांडा नटल ने अपने परिवार के लिए ऐशो-आराम का हर सामान जुटाया। वहअपने परिवार के साथ प्राइवेट जेट से दुबई घूमने गईं। उन्होंने बच्चों की पढ़ाई पर भी काफी पैसा खर्च किया। इसके अलावा उन्होंने एक आलीशान घर भी खरीदा। इतनी शानो-शौकत के बाद अब उन्हें 60 लाख पाउंड (54.90 करोड़ रुपये) का जुर्माना चुकाना होगा। दरअसल, जैकपॉट लगने के कुछ समय बाद नेशनल क्राइम एजेंसी (एनसीए) ने एक जांच शुरू कर दी। आठ साल की जांच के बाद पता चला कि अमांडा और दो अन्य लोग मनी-लॉन्ड्रिंग ग्रुप में शामिल हैं। अमांडा और उनके पति जोनाथन (46) को वैट चोरी का दोषी भी ठहराया जा चुका है। उन्होंने अपने तीन बच्चों को बकिंघम शायर के स्टो स्कूल में पढ़ने भेजा, जिस पर हर साल 38,000 पाउंड खर्च होते थे। नेशनल क्राइम एजेंसी (एनसीए) की जांच में पता चला कि अमांडा के पति ने अवैध तरीके से काफी संपत्ति जुटाई है और सारी पूंजी पत्नी के नाम पर कर दी है। माडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट ने नटल और दो अन्य दोषियों की 11 संपत्तियां जब्त करने का आदेश दिया है।
एनसीए को जांच में पता चला कि पिछले कुछ वर्षों में उन्होंने करीब 1,00,000 ट्रांजैक्शन की थीं। वहीं, यह भी पता चला कि उन्होंने रूस और ब्रिटेन में फर्जीवाड़ा कर काफी धन कमाया है। हाईकोर्ट ने आदेश दिया कि हैम्पशायर की नटल, सोलीहल के प्रॉपर्टी टायकून एरिक ग्रूव (89) और लंदन के वकील टिमोथी बेकर (55) की 11 संपत्तियां जब्त कर ली जा। कोर्ट ने तीनों को आपराधिक गतिविधियों के जरिये पैसा कमाने का दोषी पाया। कोर्ट ने सारा पैसा अमांडा के खातों में होने के कारण जोनाथन के खिलाफ कोई आदेश जारी नहीं किया। एनसीए में अधिकारी एंडी लुईस ने बताया कि जोनाथन को मामले में शामिल नहीं किया गया। दरअसल, जोनाथन ने अपने कारोबार का ढांचा कुछ इस तरह बनाया है कि उसके पास जब्त करने लायक कोई संपत्ति ही नहीं है। उसने सब कुछ अपनी पत्नी और अन्य लोगों के नाम पर बनाया है।
विपिन/ ईएमएस 15 मई 2019