क्षेत्रीय

नवरात्रि के अंतिम दिन संपन्न कराये गये कई विधान

07/10/2019

कन्या पूजन, जंवारा विसर्जन और चला जगह जगह भंडारा
भिलाई (ईएमएस)। नवरात्रि के अंतिम दिन आज देवी मंदिरों और दुर्गोत्सव पंडाल में ैदिक मंत्रोच्चारण गूंजता रहा। कन्या पून, जोत जंवारा विसर्जनके साथ में भोग भंडारा का दौर शुरू हो गया। नवमी तिथि पर आज सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना की गई। इस दौरान मंदिर और पूजा पंडालों में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।
नौ दिनों तक चलने वाले देवी आराधना के नवरात्रि पर्व के आखिरी दिन पूजा अर्चना के साथ विविध आयोजनों में भक्तों की स्वस्र्फूत भीड़ उमड़ पड़ी। नवमी तिथि के चलते आज सभी देवी मंदिर और दुर्गोत्सव पंडाल पर कन्या पूजन का विधान संपन्न कराया गया। छोटी-छोटी नौ कन्याओं को ससम्मान आमंत्रित कर उन्हें देवी स्वरूप में सजाया गया। फिर उन्हें स्वादिष्ट भोजन करान ेके बाद भूलचूक पर क्षमा याचना करते हुए रुपए तथा उपहार भेंट किए गए। अनेक घरों में भी कन्या पूजन का विधान संपन्न कराया गया।
अनेक मंदिरों से आज ज्योति तथा जंवारा कलशों के विसर्जन हेतु शोभायात्रा निकाली गई। इस दौरान परंपरागत देवी जस गायन चलता रहा। दुर्गा माता की आराधना के लिए नवरात्रि के पूरे नौ दिन महत्वपूर्ण माने जाते हैं। इसके पहले दिन मंदिर और घरों में जंवारा बोया जाता है। आज नवमी के दिन जंवारा विसर्जन से पहले पूजा अर्चना की गई। शहर में सुपेला, कोहका, खुर्सीपार आदि के मंदिरों से निकली जंवारा यात्रा में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। विसर्जन के बाद प्रसाद के रूप में जंवारों का वितरण भी किया गया।
इसी कड़ी में आज शहर के अनेक मंदिर र पूजा पंडालों में भोग भंडारा का आयोजन किया गया। देवी प्रतिमा के खिचड़ी, खीर, पुड़ी से लेक रशात्विक भोजन का भोग लगाने के बाद भंडारा का सिलसिला शहर के अनेक स्थानो पर चल पड़ा। सार्वजनिक दुर्गोत्सव पंडालों पर देवी भक्तों को सम्मान के साथ बिठाकर प्रसाद के रूप में स्वादिष्ट भोजन परोसा गया।
प्रवीण/07/10/2019